इटवा में सपा को झटका, प्रमुख सपाई नजरे आलम के साथ सैकडों ने थामा बसपा का दामन

November 21, 2016 2:31 PM0 commentsViews: 1813
Share news

—इटवा के मिठौवा में हुई सभा में अरशद खुर्शीद ने कहा बसपा की बनेगी सरकार

—भाजपा सरकार पूंजीपतियों की हिमायती और सपा में आम आदमी असुरक्षित- कल्पनाथ बाबू

एम.आरिफ

अरशद खुर्शीद के साथ फूल मालाओं से लदे नजरे आलम और उनके साथी

अरशद खुर्शीद के साथ फूल मालाओं से लदे नजरे आलम और उनके साथी

इटवा, सिद्धार्थनगर। उत्तर प्रदेश विधान सभा अध्यक्ष माता प्रसाद पांडेय के विधान सभा क्षेत्र के प्रभावशाली सपाई नजरे आलम ने अपने सैकडों साथियों के साथ कल बहुजन समाज पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर ली। इसे समाजवादी पार्टी इटवा के लिए एक झटका माना जा रहा है।

जानकारी के मुताबिक मिठौवा चौराहे पर स्वयं नजने आलम ने एक विशाल जन सभा का आयोजन किया। कार्यक्रम में जब सपा नेता नजरे आलम अपने साथी व ग्राम प्रधान जबजौवा शहबान अहमद, युवा नेता अविंद मिश्रा, दिनेश मिश्रा, आशीष शुक्ला, यार मोहम्मद व मनीष मिश्रा समेत सैकडो साथियों के साथ मौके पर पहुंचे इसके बाद बसपाईयों ने खुशी में उन्हें फूल मलाओं से लाद दिया गया।

इस अवसर पर बसपा में शामिल हुए नेता नजरे आलम ने प्रदेश सरकार पर निशाना साधते हुये कहा कि अब समाजवादी पार्टी में पूंजीवाद हावी हो चुका है। वहां अब गरीबों, किसानों की बात करने के बजाये उनका शोषण किया जा रहा है। इसी कारण उन्हें पार्टी छोडनी पडी।

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुये मुख्य अतिथि के रूप में जोन कार्डिनेटर कल्पनाथ बाबू ने कहा कि भाजपा उद्योगपतियों की हिमायती है और उसने पूंजीपतियों के कर्ज माफ कर यह साबित भी कर दिया है। उन्होंने ने कहा कि भाजपा ने नोट बन्दी कर, कालाधन पर लगाम लगाने के नाम पर गरीबों को परेशान कर रही है । और सपा राज में तो आम जनता सुरक्षित ही नहीं है।

जनसभा में बसपा प्रत्याशी अरशद खूर्शीद ने कहा बहुजन समाज पार्टी वास्तव में हर वर्ग के गरीबों और दबे कुचले लोगों के सम्मान की लडाई लड़ रही है। जिसे आजादी के बाद तक किसी भी पार्टी ने न तो सम्मान दिया और न ही उनके उत्थान शिक्षा, विकास के लिये कोई भी कदम उठाये। अन्त में उन्होने कहा कि 2017 में बहन जी की सरकार बनेगी तो प्रदेश का समुचित विकाश होगा।

इस मौके पर राम मिलन भारती, शेखर अजाद, लालचन्द निषाद, अशलम खुर्शीद, राम अचल गौतम, भुल्लर प्रसाद, राम दास मौर्या, आस मोहम्मद, पिंगल प्रसाद, मो0 इकराम, बलराम मिश्रा, शाबान प्रधान, अरविन्द मिश्र, आदि लोग मौजूद रहे। संचालन रामयज्ञ गौतम ने किया।

Leave a Reply