राजा योगेन्द्र प्रताप सिंह ने कहा जनता सेवा ही हमारा धर्म- योगेन्द्र प्रताप सिंह

November 5, 2016 2:16 pm0 commentsViews: 194
Share news

अजीत सिंह

rajasahab1

सिद्धार्थनगर। राजमहल से निकल कर जनता के बीच रुबरु होकर उनकी समस्याओं को दूर करना और एक स्वच्छ समाज की संरचना कर उसकी रक्षा करना ही एक राजा का धर्म होता है। जिसे मैं कभी नहीं छोडूंगा। जनता जब भी चाहे बेझिझक मुझसे मिलकर अपनी परेशानी व समस्या से  अवगत करा सकती है। उसके समाधान का हर संभव प्रयास होगा।
उक्त बातें शोहरतगढ़ के राजा योगेन्द्र प्रताप सिंह उर्फ बाबा साहब ने कपिलवस्तु पोस्ट से एक मुलाकात के दौरान कही। उन्होंने कहा कि एक राजा का मतलब राजभोग करना नहीं, बल्कि अपने क्षेत्र की जनता की सेवा होती है। मैं अपनी जिम्मेदारी भलीभांति समझता हूं।
उन्होंने कहा कि मैं राजमहल का सुख छोड़ क्षेत्र का दौरा कर रहा हूं और जिन गांवों में जो भी समस्यायें मिल रही हैं, उन्हें दूर कराने का भरपूर प्रयास कर रहा हूं। कुछ समस्याओं को संबधित विभाग से कह कर दूर करानें की कोशिश कर रहा हूं।
बाबा साहब ने बताया कि जूड़ीकुइंया, अड़हवा, पिपरी, खेतवल, मस्जिदिया, नकथर, खरगवार, रेहरवा, पकड़ी, बभनी, परसोहिया, कोइलीघाट, जमहिरिया, भटपुरवा, बनगंवा सहित दर्जनों गांवों में सड़क बिजली पानी आदी जरुरतों से रुबरु हुआ और उसके निराकरण के लिये विभागों को अवगत कराया।
कुंवर धनुर्धर प्रताप सिंह ने बताया कि ग्रामीण भी राजा साहब को अपने बीच पाकर काफी प्रसन्न मुद्रा में दिख रहे थे। ग्रामीणों ने कहा कि हम लोग राजा साहब का साथ देने के लिये हर वक्त तैयार हैं। उस दौरान उनके साथ दो दर्जन से अधिक समर्थक भी साथ साथ थे।

(4)

Leave a Reply