क्रान्ति दिवस पर पर जुटेंगे देश के दिग्गज पत्रकार, स्वाधीनता सेनानी बदुरशाह जफर पर होगी  चर्चा

August 7, 2023 11:51 AM0 commentsViews: 159
Share news

नजीर मलिक

दो बेटों को गोली से उड़ाये जाने के बाद गिरफतार कर रंगून भेजे जाने वाले अंतिम मुगल शासक बहादुर शाह जफर

सिद्धार्थनगर। 9 सन 1942 को शुरू हुए स्वाधीनता संग्राम के विशाल आंदोलन को अगस्त क्रान्ति दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस बार 9 अगस्त बुधवार को जिला मुख्यालय पर अगस्त क्रान्ति को बड़े पैमाने पर मनाया जायेगा, जिसमें देश के पांच दिग्गज में पत्रकार भाग लेंगे और प्रथम स्वाधीनता संग्राम के अमर सेनानी व मुगल बादशाह बहादुर शाह जफर जफर पर विशेष  विमर्श करेंगे।

यह जानकारी देते हुए कार्यक्रम के आयोजक एवं मौलाना अब्दुल कयूम रहमानी ट्रस्ट के अध्यक्ष बदरे आलम ने देते हुए  बताया कि कार्यक्रम का शुभारंभ 11  बजे मुख्यालय के लोहिया सभागार में होगा, ।जिसमें देश के जाने माने पत्रकार अशोक वानखेडे (मुम्बई), राकेश पाठक (इंदौर) आनन्द वद्धर्न व शीतल पी.सिंह लखनऊ के साथ प्रोफेसर रविकांत भाग लेंगे। यह सभी प्रथम स्वाधीना संग्राम के नायक बहादुरशह जफर के विषय में बहुआयामी चर्चा करेंगे।

संयोजक बदरे आलम ने बताया कि आज के माहौल में बहादुरशाह की प्रसंगिकता बढ़ गई है तथा साम्प्रदायिक सौहाद्र् बढ़ाने की जरूरत है। उन्होंने जनपदवासियों से कार्यक्रम में भाग लेने की अपील किया है। याद रहे कि बहादुर शाह जफर को प्रथम स्वाधीनता संग्राम (1857) में क्रान्तिकारियों ने सर्वसम्मत से अपना नेता माना था। बाद में अंग्रेजों ने उनके दो बेटों को गोली से उड़ा कर उन्हें गिरफतार कर रंगून भेज दिया गया था। वहीं उन्होंने अपना अंतिमकाल  जेल में गुजारा

गिरफ्तारी के बाद सम्राट बहादुरशाह जफर

उल्लेखनीय है कि उपरोक्त वक्ता आज की गोदी मीडिया के खिलाफ खड़े होने वाले प्रमुख स्तंभों में से हैं तथा व्यवस्था के खिलाफ सवाल उठाने के लिए जाने जाते हैं। सारे अतिथि पत्रकार आज  की पत्रकारिता की अंधेरी सुरंग के बीच जलती मशाल उठा कर चलने वाले पत्रकारो में अग्रणी माने जाते हैं।

 

 

Leave a Reply