पूर्व ब्लाक प्रमुख के भाई की मस्जिद में कुरआन पढ़ते वक्त गोली मार कर हत्या, कातिल फरार

October 7, 2021 2:09 PM0 commentsViews: 3066
Share news

मस्जिद मेंं कत्ल की वारदात तो शैतान ही कर सकता है, कोई आम इंसान तो हरगिज नहीं- शफीउल्लाह पूर्व ब्लाक प्रमुख

नजीर मलिक

कमरुज्जमा की हत्या के बाद मस्जिद के बाहर जमा लोगों की भीड़

सिद्धार्थनगर। चिल्हिया थाना क्षेत्र के ग्राम कोल्हुअवा गायघाट में बर्डपुर के पूर्व ब्लाक प्रमुख के छोटे भाई की गोली मार कर हत्या कर दी गई। गोली तड़के उस वक्त मारी गई जब वह भोर की नमाज पढ़ने के लिए गांव के मस्जिद में गये हुए थे। मृतक का नाम कमरुज्जमा था। वह बर्डपूर के पूर्व प्रमुख शफीउल्लाह के भाई थे और गक्षेत्र के हैसियतदारों में गिने जाते थे। उनकी उम्र 50 साल थी। इस घटना से समूचे बर्डपुर विकास खंड में सनसनी छा गई है। गुरुवार को हुई घटना का कारण मामूली विवाद बताया जा रहा है।  इस सिलसिले में गांव के ही पिता पुत्र को हिरासत में ले कर पुलिस पूछताछ में जुट गई है।

बताया जाता है कि मृतक कमरुज्जमा नमाज शुरू ने के पूर्व ही मस्जिद में पहुंच कर कुरआन शरीफ पढ़ रहे थे। वह अक्सर मस्जिद में सुबह फजर की नमाज के पहले ही पहुंच जाते और कुरआन पढ़ते रहते। उसके बाद अजान होने पर नमाज पढ़ कर वापस घर आते। हत्यारे या हत्यारों ने उनकी इसी दिनचर्या का बेजा लाभ उठाया। बताते है कि कमरुज्जमा गुरुवार भोर में भी कुरआन की तिलावत कर ही रहे थे कि इसी बीच हत्यारे मस्जिद में घुसे और उनपर फायर झोंक दिया। गोली उनके दिल को चीरती निकल गई और उन्होंने मौके पर ही दम तोड़ दिया। उनके फर्श पर गिरते ही हत्यारे घटना स्थल से फरार हो गये।

मस्जिद के अंदर से फायर की आवाज सुन कर गांव वाले चौंक पड़े। चूंकि उस वक्त फजर की नमाज के लिए गांव वाले वजू आदि की तैयारियां कर रहे थे, इसलिए मंदिर से धमाके की आवाज सुनने के साथ हीर सभी भाग कर मस्जिद में पहुंच गये। जहां कमरुज्जमा खून से नहाई हुई लाश फर्श पर पड़ी थी। घटना की सूचना तत्काल चिल्हिया थाने की पुलिस को दी गई। सूचना पाकर थानाध्यक्ष मय फोर्स के मौके पर पहुंचे और प्राथमिक जांच के बाद लाश को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। पुलिस हत्या के कारणों का पता लगाने में जुटी हुई है। पुलिस  सूत्रों के अनुसार जैसे ही हत्या के कारणें का पता चलेगा हत्यारे अपने आप बेनकाब हो जाएंगे।

फिलहाल मृतक कमरुज्जमा अथवा उनके परिजानों से गांव में किसी से ऐसी रंजिश नहीं थी, जिसके कारण हत्या जैसी घटना को अंजाम देनी पड़ जाए। चूंकि पिछले दो दशक में मुम्बई की कमाई के जारिए उनकी आर्थिक हैसियत काफी बढ़ी है। उनके भाई और भाभी ने ब्लाक प्रमुख के पिछले दो चुनाव जीत कर अपनी राजनीतिक ताकत भी बढ़ाई है। इसलिए उनके गांव में कुछ लोग उनसे ईष्या रखते थे। दो एक घरों से सामान्य मनमुटाव भी था। इसके अलावा और किसी से कोई बैर न था।

Leave a Reply