लाकउाउन में बड़हलगंज के दो युवा बने गरीबों के मददगार, राजनीतिज्ञ हुए ‘सियासी कोरोना’ से ग्रसित

April 18, 2020 12:52 pm0 commentsViews: 259
Share news

अजीत सिंह

गोरखपुर।जी देशव्यापी लाकडाउन में जहां हर वर्ग को दिक्क्क्तों का सामना करना पड़ रहा वही चिल्लूपार के दो युवा इस विकट परिस्थिति में गरीबो मजलुमो के लिए भोजन और राशन पानी  की व्यवस्था में निरंतर लगे  हैं। जबकि स्थानीय सियासतदानों ने ‘सियासी कोरंटीन’ में शरण ले रखा है। आज चिल्लूपार क्षेत्र में इन दो युवाओं की सर्वत्र सराहना हो रही है।

ऐसे माहौल में जब जनप्रतिनिधियों ने खुद को क्वारन्टीन कर लिया है ये दो युवा अपनी परवाह न कर विगत 27 मार्च से ही पीड़ितों के लिए भोजन और राशन की व्यवस्था कर रहे है । दीवानी कचहरी में वकील प्रणव द्विवेदी जहाँ रोज ऐसे लोगों को राशन पहुँचा रहे हैं, जिन तक जिम्मेदारों की नजर नहीं पहुंच पा रही है। वहीं आलोक अपनी टीम के साथ रोज करीब 100 लोगो के खाने की व्यवस्था कर रहे है। कहना गलत नही की मध्यम परिवार के ये युवा अपनी छमता से ज्यादा मदद करते हुए उन जनप्रतिनिधियों को आइना भी दिखा रहे हैं, जो इस आपदा के वक़्त भी दूर दूर तक दिखाई नही दे रहे हैं।

चिल्लूपार के राजा राम का कहना है कि जब शासन की व्यवस्था चरमरा गई। गरीबों ने उससे मदद की उम्मीद छोड़ दी है। यहां कह राजनीत में हर समय जनता की मदद का दावा करने वाले नेतागण लापता हैं। ऐसे में  प्रणव व आलोक बाबू गरीबों के मसीहा बन कर उभरे हैं। स्टूडेंट के.डी. सिंह कहते हैं कि वे गरीबों मददगार ही नहीं युवाओं के प्रेरणाश्रोत और बच्चों के सांता क्लाज हैं।

इन कार्यक्रमों में प्रणव के साथ अवनीश द्विवेदी, केशव पांडे, अविनाश सिंह, दिव्यम द्विवेदी तो आलोक त्रिपाठी की टीम में झिनकू बाबा, आदित्य त्रिपाठी, अरविंद त्रिपाठी भी लगे हुए है और इस आपदा के समय पूरी निष्ठा के साथ मदद कर रहे है।

 

 

(245)

Leave a Reply


error: Content is protected !!