किसान यूनियन के कार्यकर्ता एनएच बेलगढ़ी टोल प्लाजा के पास धरने पर बैठे

May 10, 2022 1:18 pm0 commentsViews: 133
Share news

 अजीत सिंह

इंटरनेट फोटो

बांसी, सिद्धार्थनगर। जिले से पंजीकृत वाहनों से टोल वसूली को लेकर भारतीय किसान यूनियन संगठन    के कार्यकर्ता सोमवार को आक्रोशित हो गए। बस्ती- बांसी मार्ग एनएच-233 पर बेलगढ़ी टोल प्लाजा के पास पंचायत लगाकर बैठ गए। स्थानीय लोगों से टोल टैक्स की वसूली बंद करने की मांग करने लगे। जिला प्रभारी सूर्य प्रकाश सिंह के नेतृत्व लगी पंचायत की जानकारी होने पर तीन थाना शिवनगर डिड़ई, खेसरहा व कोतवाली बांसी की पुलिस फोर्स भी मौके पर मुस्तैद हो गई है। इस मौेके पर तहसील प्रशासन भी सतर्क रहा।

 बांसी- बस्ती एनएच-233 पर पडऩे वाले बेलगढ़ी टोल प्लाजा को एक माह से शुरू कर दिया गया है। टोल प्लाजा के कर्मी जनपद से रजिस्टर्ड वाहनों से भी टोल के रूप में 50 रुपये निजी व 75 रुपये छोटे कामर्शियल वाहनों से वसूली कर रहा है। इसको लेकर कई वार स्थानीय लोगों ने तू-तू मैं मैं भी हो चुका है। लोगों की इस समस्या पर भाकियू ने पूर्व घोषित कार्यक्रम के तहत पंचायत लगाने का एलान कर दिया। सुबह 10 बजे से टोल प्लाजा के समीप स्थित खेत मे लगाए गए टेंट में भाकियू कार्यकर्ता पहुंचने लगे। पंचायत लगाए भाकियू कार्यकर्ताओं का कहना है कि लोकल वाहनों से टोल टैक्स वसूली टोल प्लाजा के कर्मियों की मनबढ़ई को साबित करता है। जिले से रजिस्टर्ड वाहन के स्वामी व चाक टोल देने में आनाकानी करते हैं तो वसूली लगे कर्मी उनसे झगड़ा व मारपीट करने तक पर उतारू हो जाते है।

जबकि जहां भी टोल प्लाजा स्थापित है, वहां स्थानीय व जिले के वाहनो से टोल टैक्स की वसूली नहीं होती है। जिला प्रशासन इस प्लाजा पर भी वही नियम लागू कराए। स्थानीय वाहन स्वामियों के आधार कार्ड व जिले से रजिस्टर्ड वाहन नंबर को देख कर आने जाने की अनुपमती दिलाये। यदि ऐसा नहीं हुआ तो भाकियू अनिश्चित काल के लिए यहां पंचायत लगाए रहेगी। एसडीएम प्रमोद कुमार का कहना है कि भाकियू कार्यकर्ताओं की लगी पंचायत पर पूरी निगाह रखी जा रही है। वह सब एनएच मार्ग पर पंचायत लगाने की फिराक में थे, जिसे समझा बुझाकर खेत में लगवा दिया गया है। उनकी जो भी जायज मांग होगी उसे उच्च अधिकारियों से वार्ता कर पूर्ण कराया जाएगा।

सीओ देवीगुलाम का कहना था कि उनकी पंचायत पुलिस निगरानी में चल रही है। यदि वह अवैधानिक आंदोलन का रुख करेंगे तो प्रशासन उनसे कड़ाई से निपटेगा। टोल प्लाजा के मैनेजर मुन्ना यादव का कहना था कि लोकल लोगों के 350 रुपये प्रति माह जमा कर पास की व्यवस्था की गई है। पूरी तरह टोल फ्री तभी हो सकता है जब एनएच इस मामले में कोई निर्देश करें।

 

(128)

Leave a Reply


error: Content is protected !!