ब्लाक प्रमुख के अविश्वास प्रस्ताव में डुमरियागंज में बने महागठबंधन की हार होगी– चिनकू यादव

July 28, 2017 12:37 pm0 commentsViews: 806
Share news

 

नजीर मलिक

सिद्धार्थनगर। डुमरियागंज ब्लाक प्रमुख के खिलाफ चलाये जा रहे अविश्वास प्रस्ताव अभियान के दौरान भाजपा और बसपा ने मिल कर महागठबंधन बनाया है।  यदि अविश्वास पर मत विभाजन होगा तो इस महर गठबंधन की हार होगी। क्योंकि जनता ने इन अवसरवादी लोगों को पहचान लिया है। बीडीसी सदस्य इस क्षे़त्र में साम्प्रदायिक चेहरों को बेनाकाब कर देंगे।

यह बात सपा नेता रात कुमार उर्फ चिनकू यादव ने कहा। कपिलवस्तु पोस्ट से बात करते हुए उन्होंने कहा कि बसपा नेता कमाल यूसुफ और सैयदा मलिक द्धारा भाजपा के सहयोग से अविश्वास प्रस्ताव लाने का मकसद ब्लाक प्रमुख हटाना नहीं वरन धर्मनिरपेक्षता को नेस्तनाबूद करना है। जनता इस बात को अच्छी तरह समझ रही है। बीडीसी मेम्बर भी इसे बखूबी समझ रहे हैं। इसलिए इस गठबंधन की हार तय है।

चिनकू यादव ने कहा कि मलिक कमाल यूसुफ और सैयादा मलिक के पिता उम्र भर भाजपा व साम्प्रदायिकता के खिलाफ लड़ते रहे, मगर आज तौफीक साहब की बेटी और कमाल यूसफ भाजपा के साथ खड़े होकर धर्म निरपेक्षता की हत्या कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि किसने सोचा था कि अपने राजनीतिक लाभ के लिए यह लोग सेक्यूलरिज्म की चादर पर मौकापरस्ती की कहानियां लिख्रेंगे।

सपा नेता चिनकू ने दावा किया कि बीडीसी सदस्यों का बड़ा हिस्सा आज भी ब्लाक प्रमुख के पक्ष में है। लेकिन वह सत्ता पक्ष के दबाव और रणनीति के तहत बोल नहीं रहा है। जिस दिन मत विभाजन हुआ, लोग खुल कर ब्लाक प्रमुख श्री मिठ्ठू यादव के पक्ष में मतदान करेंगे। डुमरियागंज की मुस्लिम और ध्रर्म निरपेक्ष बीडीसी कभी भी साम्प्रदायकि दलों का साथ नही देगा।

उन्होंने कहा कि राजनीति के तीन ध्रुव जिस तरह एक होकर सपा से लड़ रहे हैं, उससे जनता के बीच तीनों के प्रति गलत संदेश गया है। वैसे भी भाजपा के तीन महीने के शासन में सरकार के प्रति जनाक्रोश है। ऐसी हालत में बीडीसी सदस्यों का बड़ा मत ब्लाक प्रमुख के पक्ष में खड़ा है। इसका प्रमाण मत विभाजन में मिल जायेगा। गौर तलब है कि ब्लाक प्रमुख मिठ्ठू यादव के खिलाफ कल अविश्वास प्रस्ताव डीएम के सामने पेश किया गया था, जिसे विचारार्थ डीएम ने सुरक्षित कर लिया है।

(8)

Leave a Reply


error: Content is protected !!