गोरखपुर–महाराजगंज एमएलसी सीटः तिवारी जी का “हाता” बनेगा लाल अमीन का सारथी

February 16, 2016 9:58 AM0 commentsViews: 1826
Share news

शिव प्रकाश श्रीवास्तव

 

पंडित हरिशंकर तिवारी व बसपा उम्मीदवार लाल अमीन

पंडित हरिशंकर तिवारी व बसपा उम्मीदवार लाल अमीन

महाराजगंज। गोरखपुर-महाराजगंज विधान परिषद सीट से बसपा प्रत्याशी लाल अमीन की चुनावी रणनीति तय हो गई है। चुनावी महाभारत में गणेश शंकर पांडेय उम्मीदवार लाल अमीन के सारथी की भूमिका में होंगे। इससे जाहिर है कि बसपा की राजनीति में गोरखपुर का हाता यानी पंउित हरिशंकर तिवारी की भूमिका महत्वपूर्ण हो गई है।

खबर है कि एमएलसी उम्मीदवार लाल अमीन की जीत के लिए कल गोरखपुर में दो महत्वपूर्ण बैठक हुई। पहली बैठक वहां के एक होटल में और दूसरी बैठक गणेश शंकर पांउेय के आवास पर हुई।
बैठक में जोनल कोआरडीनेटर लालजी भारती मौजूद रहे। उन्होंने माना कि इस चुनाव में गणेश शंकर पांउेय सहित पंउित हरिशंकर तिवारी

के समर्थकों की भूमिका महत्वपूण होगी। सूत्रों का कहना है कि इस चुनाव की कमान विधान परिषद के निवर्तमान सभापति गणेश शंकर पांउेय को सोंनी गई है।

दरअसल बसपा लाल अमीन और गणेश शंकर एवं उनके संरक्षक पंउित हरिशंकर तिवारी के माध्यम से गोरखपुर, बस्ती मंउल में ब्रहमण, मुस्लिम व दलित का ताकतवर गठजोड़ बनाने के प्रयास में है।

कल की बैठक में कोआरडीनेटर लालजी भारती ने कहा भी कि टिकट काटने और बांअने के खेल ने सपा में खलबली मचा दी है। उनकी हताशा के बीच इस गठजोड़ से बसपा को यकीनी तौर पर जिताया जा सकता है।

हाता के निर्देदेशन में चुनाव लड़ने से लालअमीन के समर्थक जोश में हैं। उनका मानना है कि गोरखपुर में उग्र हिंदुत्ववादी नेता के खिलाफ गणेश शंकर पांडेय व हाता का साथ मिलने पर अल्संख्यक और दलितों का ब्रहमण मताें के साथ तेजी से ध्रुवीकरण होगा।

गोरखपुर-महाराजगंज सीट पर ब्रहमण दलित मुस्लिम गठजोड़ बहुत मजबमत है, इसका दावा बसपा जिलाध्यक्ष सुरेश कुमार भी करतें है। उन्होंने कपिलवस्तु पोस्ट से बातचीत में कहा कि उनकी पार्टी को सर्वसमाज का समर्थन हासिल है, गोरखपुर में उग्र हिंदत्व के खौफ को तोड़ने के लिए लालअमीन और हाता समीकरण ने कमजोर तबके में जोश बढ़ाया है। इसका प्रभाव गोरखपुर ही नहीं बस्ती मंडल के चुनाव पर भी पड़ेगा।

 

Leave a Reply