गोरखपुर में 50 से अधिक मौतों का मामलाः झूठ और अमानवीयता की हदें तोड़ दिया प्रशासन ने

August 12, 2017 4:28 pm0 commentsViews: 341
Share news

 नजीर मलिक

“ पूर्वी यूपी के गोरखपुर मेडिकल कालेज में थोडे थोडे अंतराल पर तकरीबन 50 लोगों की मौत सामने आई है। इसमें 11 तारीख को एक झटके में हुई 30 बच्चों की दर्दनाक मौत भी शामिल है। हालांकि मेडिकल कालेज में अब मौत कर आंधी थम चुकी है, मगर उस के खौफ के निशान अभी बाकी हैं। कालेज परिसर में अब परिजनों का रुदन अब ठहर चुका है लेकिन कलपतीं माओं के विलाप की आवाजें अभी मेडिकल कालेज परिसर को डराये हुए हैं। इस दौरान प्रशासन मामले को दबाने और घटना को गैरसंजीदा बनाने के लिए अमानवीयता की सारी हदें तोड़ गया। इस समूचे घटनाक्रम पर पेश है हमारे साथी और वरिष्ठ पत्रकार मनाज सिंह की दो अलग अलग खोज परक रिपोर्ट, जो आपको सच से रुबरू करायेगी।

48 घटे में 18 लोगों की मौत को छुपा गया प्रशासन

गोरखपुर, 12 अगस्त। बीआरडी मेडिकल कालेज में तीन दर्जन बच्चों की मौत तो हुई ही 24 घंटे में 10 वयस्कों की भी मौत हो गई। वयस्क मरीजों की मौत साबित करती हैं कि आक्सीजन सप्लाई की कमी ही इन मौतों के लिए जिम्मेदार है। प्रशासन द्वारा कही गई बातों और आंकड़ों में भारी फर्क है जिससे यह आशंका हो रही है कि मौतों को छुपाने का काम किया गया है।
गोरखपुर के डीएम राजीव रौतेला ने 11 अगस्त की रात आठ बजे प्रेस ब्रीफींग में नौ अगस्त को 12 बजे रात से 11 अगस्त की रात सात बजे तक 30 बच्चों की मौत को स्वीकार किया। इसमें 17 नवजात शिशुओं, आठ जनरल पीडिया के मरीजों और पांच इंफेलाइटिस से ग्रस्त मरीजों की मौत की बात स्वीकार की। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि आक्सीजन की कमी से एक भी मरीज की मौत नहीं हुई।
उन्होंने यह भी कहा कि बीआरडी मेडिकल कालेज बड़ा अस्पताल है और यहां बड़ी संख्या में बच्चे भर्ती होते हैं। एईएस यानि कि एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम से औसतन दस तथा नवजात शिशुओं की भी इतनी ही संख्या में मौत हो जाती है।
लेकिन बीआरडी मेडिकल कालेज के इस वर्ष के आंकड़े डीएम के दावे को झूठलाते हैं। इंसेफेलाइटिस से इस वर्ष 24 घंटे में अधिकतम मौत 5 है। इसी तरह नियोनेटल वार्ड में औसतन एक दिन की मौत पांच ही है। इस तरह से एक दिन में अधिकतम 10 से 15 के बीच ही मौतें हैं यदि अन्य बीमारियों से बच्चों की मौत का आंकड़ा भी जोड़ दिया जाए लेकिन यहां तो बकौल डीएम नौ तारीख की रात 12 बजे से 11 अगस्त की शाम सात बजे तक यानि 43 घंटों में 30 बच्चों की मौत हो गई। यही नहीं 18 वयस्को की भी मौत हो गई जिसका जिक्र ही नहीं किया गया। वार्ड संख्या 14 जो कि मेडिसीन विभाग के अन्तर्गत आता है, उसमें 10 अगस्त को 8 और 11 अगस्त को 10 लोगों की मौत हो गई। जिन लोगों की मौत हुई उनमें गोरखपुर के उमाशंकर, महराजगंज के रामकरन, गोरखपुर के रामनरेश, कुशीनगर के हीरालाल, देवरिया के अजय कमार, देवरिया की संकेशा, पूरन यादव, घनश्याम, इन्दू सिंह, विजय बहादुर आदि हैं।
खुद स्वास्थ्य विभाग ने जो आंकड़ा तैयार किया उसके अनुसार 10 और 11 अगस्त को एनआईसीयू यानि नियोनेटल इंटेसिव केयूर यूनिट में क्रमशः 14 और 3, इंसेफेलाइटिस से 3 और 2 तथा नान एईएस से 6 और 2 बच्चों की मौत हो गई। यानि 10 अगस्त को 23 और 11 अगस्त को 7 बच्चों की मौत हो गई। यहां हैरानी की बात यह है कि मीडिया ने जब मेडिकल कालेज प्रशासन ने 10 अगस्त को एईएस यानि कि इंसेफेलाइटिस से मौतों की जानकारी मांगी थी तो एक भी मौत न होने की बात कही गई थी। अब 10 अगस्त को इंसेफेलाइटिस से 3 मौतों की जानकारी दी जा रही है। यह आंकड़े ही तस्दीक करते हैं कि प्रशासन ने पिछले 24 घंटे में अत्यधिक मौतों को छुपाने के लिए उन्हें 48 घंटे में बांट दिया और सर्वाधिक मौतें 10 अगस्त में दर्ज कर लीं जब लिक्विड इंसेफेलाइटिस की आपूर्ति हो रही थी।
सचाई यह है कि 10 अगस्त की रात से 11 अगस्त की शाम तक ही सर्वाधिक मौतें हुई जब लिक्विड आक्सीजन की सप्लाई ठप हो गई थी

मौतें बढ़ी तो सप्लाई देने वाली कम्पनी को किया 21 लाख का भुगतान

गोरखपुर, 12 अगस्त। आक्सीजन की कमी से जब बच्चों के साथ-साथ दूसरे मरीजों की मौत की संख्या बढ़ने लगी तब मेडिकल कालेज ने आनन-फानन में लिक्विड आक्सीजन सप्लाई करने वाली कम्पनी पुष्पा सेल्स प्राइवेट लिमिटेड को आज दोपहर में 21 लाख का भुगतान किया। भुगतान मिलते ही कम्पनी ने नागपुर से एक टैंकर लिक्विड आक्सीजन परचेज कर उसे गोरखपुर के के लिए रवाना कर दिया है।
यह टैंकर तीन दिन में गोरखपुर पहुंचेगा और इसके पास पांच से छह दिन का लिक्विड आक्सीजन होगा।
सवाल यह उठता है कि यही काम तीन दिन पहले क्यों नहीं हुआ ? यदि यह भुगतान पहले हो गया होता तो लिक्विड आक्सीजन की सप्लाई का कोई संकट ही नहीं होता।
पुष्पा सेल्स प्राइवेट लिमिटेड के एक अधिकारी ने गोरखपुर न्यूज लाइन से बताया कि उसे ज्योंही भुगतान मिला उसने आईएनओक्स को धन आरटीजीएस के जरिए भुगतान किया और आज दोपहर वहां से एक टैंकर आक्सीजन लेकर रवाना हो गया।

 

(137)

Leave a Reply


error: Content is protected !!