जूनियर डाक्टरों व कर्मचारियों में जम कर मारपीट, दो सस्पेंड, मेडिकल कालेज पुलिस छावनी में तब्दील

January 9, 2024 3:08 PM0 commentsViews: 1360
Share news

नजीर मलिक

मेडिकल कालेज में मारपीट के बाद बंद कर दिया गया एमरजेंसी वार्ड

सिद्धार्थनगर। माधव प्रसाद त्रिपाठी मेडिकल कालेज में जूनियर डाक्टरों व स्वास्थय कर्मियों के बीच  बीती रात जम कर मारपीट हुई, घटना में कई लोग चोटिल हो गये तथा मेडिकल कालेज में भी तोड़फोड़ की गई। घटना की सूचना पाकर पहुंची पुलिस ने किसी प्रकार मामला शांत कराया। इसके बाद से वहां रहस्मय चुप्पी छायी हुई है। इस बारें में तत्काल प्रभाव से दो जूनियर डाक्टर कृष्णानंद पासवान और मनमोह चाौधरी को निलंबित करते हुए जांच शुरू कर दी गई हैहुए सस्पेंड,  समाचार लिखते समय मडिकल कालेज परिसर के इर्दगिर्द के इलाके में भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।

कैसे हुई पूरी घटना

बताया जाता है कि रविवार की रात लगभग 11 बजे के आसपास एक सामान्य बात को लेकर विवाद हुआ। सूत्रों के अनुसार मेडिकल कालेज के इमरजेंसी वार्ड में ग्राम बसडिलिया निवासी राजन पांडेय अपनी माता का इलाज करवा रहे थे। उनका चेकअप जूनियर डाक्टर कृष्णानंद पासवान कर रहे थे। उसी समय मौके पर मौजूद राजन पांडेय से एक वार्ड व्वाय जो एक संविदा कर्मी बताया जाता है, ने बातचीत के जरिये कुछ हस्तक्षेप किया। जूनियर डाक्टर ने उसे बीच में टोकाटाकी से मना किया मगर उसका हस्तक्षेप जारी रहा। इसी को लेकर विवाद बढ़ा तो सूत्रों के अनुसार उक्त वार्ड व्वाय अपने जूनियर डाक्टर कृष्णानंद से अपमानजनक बर्ताव करने लगा। इस पर डर वश डाक्टर कृष्णानंद ने अपने साथी जूनियर डाक्टरों को फोन कर अपने साथ हो रहे व्यवहार की जानकारी दे दी।

बताते हैं कि खबर पाकर मेडिकल के दर्जनों छात्र (जूनियर डाक्टर) भगते हुए वार्ड में पहुंच गये और अटेंडेंट को पीटने लगे। यह देख संविदा पर तैनात कुछ स्वास्थ्यकर्मी भी मौके पर पहुंच गये और दोनों पक्षों में मारपीट करने लगे। मारपीट के इस दौर में मेडिकल कालेज के दरवाजे के शीशे व अन्य सामान टूट गये। आधा दर्जन डाकटरों व स्वास्थ्य कर्मियों को चोटें भी आईं। लगभग आधे घंटे तक चली मारपीट की सूचना पाकर मौके पर पहुंची सदर पुलिस ने मामले को शांत कराया। इस बारें में अपर पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ ने घटना की पुष्टि करते हुए बताया कि अभी कोई तहरीर नहीं मिली है। तहरीर मिलते ही कार्रवाई की जाएगी।

असली कारण दलाली पर वर्चस्व का तो नही

इस विषय में पुलिस का कहना है कि अभी तक किसी पक्ष से तहरीर नहीं मिली है। तहरीर मिलने पर कार्रवाई की जायेगी। दूसरी तरफ मेडिकल कालेज में रहस्यमय चुप्पी है। इस बारें में कोई कुछ बोलने को तैयार नहीं है।  कुछ भी हो मेडिकल कालेज के स्वास्थ्य कर्मी और जूनियर डाक्टरों के बीच मारपीट की घटना पढ़ें लिखे और नौकरी पेशा समाज के लिए शर्मिंदगी का विषय है। कहते हैं कि दरअसल सारे मामले के पीछे असली कारण मेडिकल कालेज में दलाली के धंधे में वर्चस्व को लेकर हो रही है। इसे लेकर अतीत में भी विवाद हो चुका है।

क्या बोले मेडिकल कालेज के प्रचार्य

इस बारें में प्राचार्य डा. ए.के. झा ने बताया कि  घटना में दो जूनियर डाक्टरों को निलम्बित  करने हुए घटना की जांच के आउेश दे दिये गये हैं। उन्होंने बताया कि घटना की जानकारी मिलने पर रात में पुलिस अधीक्षक को सारी जानकारी से अवगत कराया तथा पुलिस को बुला कर मामला शांत कराया और मंगलवार की सुबह मुकामी थाने को घटना की तहरीर दे दी गई है। उन्होंने बताया की घटना बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है।

 

 

 

 

 

Leave a Reply