राजू हत्याकांडः प्रेमिका को हासिल करने की चाहत में सतीश ने की थी साढ़ू की हत्या

September 26, 2020 12:28 pm0 commentsViews: 1190
Share news

शिव श्रीवास्त

महराजगंज, (यूपी)।जिले के बृजमनगंज थाना क्षेत्र में राजू विश्वकर्मा की मौत से रहस्य का पर्दाफाश हो गया है। राजू की मौत बाइक एक्सीडेंट में नहीं हुई थी, बल्कि बड़े सुनियजित तरीके से उसकी हत्या की गई थी। जैसा कि कपिलवस्तु पोस्ट ने पहले ही आशंका व्यक्त कर दिया था। यह हत्या भी प्रेम त्रिकोण की एक कहानी है, जिसमें प्रेम का तीसरा कोण बनते ही कुछ अनहोनी घट जाया करती है। इस घटना में राजू की हत्या के आरोप में उसके सगे साढ़ू सतीश विश्वकर्मा को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। एसपी ने उसके एवज में पुलिस टीम को 5 हजार का पुरस्कार भी दिया है।

प्रेम त्रिकोण का तीसरा कोण

पुलिस की थ्यौरी के मुताबिक इस प्रेम त्रिकोणीय में पुरंदरपुर थाना क्षेत्र के करमहवा खुर्द गांव का रहने वाला राजू विश्वकर्मा रिश्ते में एक शादीशुदा साली को प्यार करता था। इसी महिला से उसका साढू सतीश भी चाहता था। मगर राजू सफल था। इसलिए सतीश उसे रास्ते का कांटा समझ कर उससे अंदर ही अंदर दुश्मनी रखता था और मौकामिलने पर सबक सिखाने की सोचता रहता था। यह बात राजू को पता न थी।लिहाजा दोनों में साढ़ू का संबंध यथावत था।

इस दौरान 21 सितम्बर को राजू अपने साढू सतीश के साथ तीसरे साढू कमलेश के घर बृजमनगंज क्षेत्र के ग्राम झिंगुरीजोत गया । झिंगुरीजोत पहुंचने के पहले राजू, सतीश ने कमलेश को पास की मार्केट लेहड़ा बाजार में बुला लिया।फिर सबने मिल कर शराब पी और गांव को चल पड़े।

कैसे की गई राजू की हत्या

बताते हैकि झिंगुरीजोत पहुंचने के बाद कमलेश व उसकी पत्नी को समझाने लगे, मगर तीनों को नशे में देख कर  कमलेश की पत्नी नाराज हो गई । इसके बाद दोनो साढू राजू व सतीश एक ही बाइक से वापस लौटने लगे। बृजमनगंज थानाक्षेत्र के बंनगढिया पेट्रोल पम्प के पास राजू बाइक लेकर गिर गया । उसे नशे में धुत देख सतीश को अपना बदले का संकल्प याद आ गया। उसने मौका अच्छा जानकर राजू का गला दबाना शुरू कर दिया और तब तक दबाता रहा जब की मौत नहीं हो गई।

इस प्रकार सतीश ने राजू की हत्या कर उसका शव झाडियों में फेंक दिया और उसें एक्सीडेंट बनाने की असफल कोशिश की। इस बारे में एसपी महाराजगंज ने बताया कि सतीश निवासी सिसवनिया थाना पुरन्दरपुर को गिरफ्तार कर धारा 302 , 201 आईपीसी के तहत जेल भेज दिया गया है तथा पुलिस टीम को पांच हजार का पुरस्कार दिया गया है।

 

(1141)

Leave a Reply


error: Content is protected !!