डुमरियागंजः अपना दल ने भाजपा उम्मीदवार के खुले विरोध का एलान किया

March 29, 2019 2:49 pm0 commentsViews: 1639
Share news

 

— जगदम्बिका पाल का टिकट बदले, वरना विरोध के लिए तैयार रहे भाजपा- अपना दल अध्यक्ष

 

अनीस खान

सिद्धार्थनगर। भाजपा की सहयोगी पार्टी अपना दल एस ने पार्टी की जिला इकाई की बैठक में डुमरियागंज संसदीय सीट से भाजपा प्रत्याशी के विरोध का फैसला लिया है। संगठन ने एलान किया है कि अपना दल एस की जिला इकाई मौजूदा भाजपा प्रत्याशी (जगदम्बिका पाल) को बदले बिना भाजपा के प्रचार के लिए राजी न हो सकेगी।

गुरवार को पार्टी के थरौली स्थित जिला कार्यालय पर आहूत जनता दल एस कार्यकर्ताओं की बैठक में इस मुद्दे पर गहन विचार विमर्श हुआ। लंबे विचार विमर्श के बाद अंत में भाजपा प्रत्शी को बदले बिना भाजपा की मदद से इंकार किया गया। इसकी घोषण करते हुए पार्टी के जिलाध्यक्ष आत्माराम पटेल ने बैठक में कहा कि भाजपा प्रत्शी न बदला गया तो संगठन चुनाव में खुल कर विरोध करेगा। उन्होंने साफ साफ लफ्जों में यह कहा कि संगठन भाजपा प्रत्याशी को हराने का काम करेगी। उन्होंने जगदम्बिका पाल को विरोधी बताया।

अध्यक्ष आत्माराम पटेल ने कहा कि विरोध को अभिव्यक्ति कैसे दी जायेगी, इसका फैसला संगठन की अगली बैठक में होगा। जिसमें अपना दल एस के युवा शाखा के अध्यक्ष हेमंत चौधरी भी उपस्थित रहेंगे। लेकिन उन्होंने कहा कि उस बैठक में केवल विरोध के स्वरूप पर चर्चा होगी, लेकिन विरोध अटल है।

इस अवसर पर जिला अध्यक्ष महिला मंच श्रीमती अंजलि चौधरी जिला अध्यक्ष आईटी सेल डॉक्टर अनूप यादव  जिला उपाध्यक्ष महिला मंच उषा चौधरी जिला उपाध्यक्ष धनेश कुमार वर्मा जिला मीडिया प्रभारी शेषमणि प्रजापति जिला उपाध्यक्ष युवा मंच अमर सिंह नन्हे विधानसभा अध्यक्ष कपिलवस्तु सतीश चौधरी, विधानसभा अध्यक्ष इटावा विनय कुमार जयसवाल दिलीप चौधरी बैजनाथ चौधरी दिनेश चौधरी रेखा झिनकानी देवी आरती कुसुम यार मोहम्मद कन्हैया लाल यादव अनिल यादव सुरेंद्र यादव मुस्तफा दुर्गेश चौधरी जय प्रकाश चौधरी आदि तमाम कार्यकर्ता एवं पदाधिकारी गण मौजूद रहे  यह जानकारी जिला मीडिया प्रभारी शेषमणि प्रजापति एडवोकेट ने दी।

बता दें कि अपना दल एस  भाजपा का सहयोगी दल है। गत विधान सभा चुनाव में यहां से अपना दल से अमर सिंह विधायक चुने गये थे। गत माह चौधरी अमर सिंह ने भ्री विधायक अमर सिंह ने पाल साहब का खुला विरोध करने का एलान किया था तथा उन्हें पिछड़ा विरोधी करार दिया था। लेकिन इस बार यह फैसला जिला संगठन ने किया है, इसलिए यह एलान महत्वपूर्ण हो जाता है।

(1462)

Leave a Reply


error: Content is protected !!