पप्पू हत्याकांड में एक जेल गया, मुख्य आरोपी भागा नेपाल, आनर किलिंग जैसी कहानी आ रही सामने

March 4, 2018 2:29 PM0 commentsViews: 2057
Share news

नजीर मलिक

डेमो फोटो

सिद्धार्थनगर। शहर के बहुचर्चित पप्पू उर्फ मुश्ताक  के कत्ल के मामले में अनीश कुमार गिरि नामक युवक को गिरफ्तार कर जेल भज दिया गया है, जबकि कत्ल का मुख्य आरोपी नीरज रस्तोगी के नेपाल भाग जाने की खबर है। अनीश गिरि पप्पू की बोलेरो जीप का चालक और गोरखपुर का निवासी है। पप्पू का कत्ल 28 फरवरी की रात हुआ था। यहां सिद्धार्थनगर में उसका उसका सर धड अलग कर पड़ोसी जिले के जंगल में फेंक दिया गया था।

खबर है कि चालक अनीश गिरि को पुरन्दरपुर (जिला महाराजगंज) थाने की पुलिस ने कल जेल भेज दिया है। पप्पू की लाश महाराजगंज जिले के पुरंदरपुर जंगल में मिलने से तफ्तीश वहीं की पुलिस कर रही है। दूसरी तरफ पता चला है कि मुख्य अभियुक्त नीरज रस्तोगी नेपाल फरार हो गया है। इसका खुलासा उसके द्धारा नेपाली सिम से अपने परिजनों से बात करने पर हुआ। पुरंदरपुर पुलिस नीरज की गिरफ्तारी के लिए जाल बिछा रही है, मगर दूसरा देश होने के कारण उसकी गिरफ्तारी आसान नहीं दिख रही।

पहली कहानी अवैध सम्बंध की

इस बीच पप्पू  उर्फ मुश्ताक के कत्ल की दो मुख्य वजहें सामने आ रही हैं। चर्चा के मुतबिक पहलली वजह यह की पप्पू ने हत्यारोपी परिवार की किसी महिला को दूसरे के साथ आपत्तिजनक अवस्था में देख लिया था। इस बात के खुलने के डर से उक्त महिला पप्पू को मारने के लिए नीरज को उकसाया, जिसके फलस्वरूप यह घटना हुई। वैसे कुछ लोग इस कहानी में महिला के साथ पप्पू के ही सम्बंध की बात भी कह रहे हैं। मगर पप्पू के परिजन भी पहली बात को सच मान रहे हैं। पप्पू की पत्नी रेहाना स्वयं ऐसा ही मानती है।

रुपया हो सकता है एक कारण

दूसरी ओर कुछ लोगों को पता है कि पप्पू नीरज के घर प्राइवेट लोन की किश्त वसूलने जाता था। दोनों में सम्बंध बहुत अच्छे थे। लोगों का अनुमान है कि हो सकता है कि लोन की किश्त वसूलने के मामले में दोनों में कुछ विवाद हुआ हो और नीरज ने पप्पू की हत्या कर दी हो। लेकिन हत्यारों ने जिस क्रूरता के साथ मृतक के होठों को स्टेपुलर से सिल दिया था, उससे यह आवेश में किया कत्ल नही लगता। ऐसी हत्याएं अक्सर नफरत और बदले की भावना से की जाती हैं। फिलहाल पुलिस नीरज रस्तोगी को दबोचने के फिराक में है। उसकी गिरफृतारी तक कत्ल के कारणों पर केवल अनुमान ही लगाया जा सकता है।

क्या था घटनाक्रम

बताते चलें कि गत 28 फरवरी की रात सिद्धार्थनगर मुख्यालय के जगदीशपुर निवासी पंकज रस्तोगी ने पुलिस को तहरीर दी थी कि उसकी दूकान पर खुन बिखरा है। आशंका है कि कुछ लोगों ने उसके भाई नीरज रस्तोगी को संभवतः मार कर लाश गायब कर दिया है। लेकिन -2 मार्च को जब महाराजगंज के पुरंदरपुर जंगल में पप्पू की लाश मिली और नीरज के फरर होने की जानकारी प्रकाश में आई तो मामला जटिल हो गया। बाद में नीरज के ड्राइवर अनीश गिरि ने पकड़े जाने पर  बताया कि पप्पू की हत्या नीरज के घर में की गई। (याद रहे कि उसके घर में ही दुकान है) और बोलेरो गाड़ी से नुरंदरपुर जंगल में फेंक दी गई। फिलहाल लोगों को नीरज के पकड़े जाने का इंतजार है। क्याकि उसकी गिरफ्तारी के बाद ही असली मामला सामने आ सकेगा।

 

 

 

 

 

Leave a Reply