मो0 मुकीम एवं कमाल यूसुफ को एमिम से चुनाव लड़ने का न्योता, हाशिये पर खडी़ मुस्लिम लीडर शिप

February 21, 2016 3:45 PM18 commentsViews: 3620
Share news

अजीत सिंह।

मो़ मुकीम कमाल युसूफ और अलीअहमद

मो़ मुकीम कमाल युसूफ और अलीअहमद

सिद्धार्थ नगर जिले के कद्दावर नेता व पूर्व सांसद और दो बार इटवा विधान सभा का प्रतिनिधित्व कर चुके मो0 मुकीम को पार्टी विरोधी गतिविधियों में लिप्त होने की शिकायत पर बसपा से निष्कासित किया जा चुका है इनके अलावा पूर्व मंत्री मलिक कमाल यूसुफ की राजनीति भी पीस पार्टी और सपा में हाशिये पर खड़ी है। हालात भांपते हुए एमिम ने दोनों दिग्गज नेताओं पर अपनी निगाह गड़ाई है।
मो0 मुकीम के बसपा से निकाले जाने की खबर जिले में आग की तरह फैली और राजनीतिक गलियारों में तरह तरह की चर्चा होने लगी। लोग अचंभित हाेने लगे कि मुकीम को कैसे बसपा ने निकाल दिया जबकि पहली बार मुकीम ने ही जिले में बसपा का खाता खोला था।पार्टी निष्कासन के बारे में जानकारी करने पर कोई भी बसपाई बोलने से कतरा रहा है। बसपा जिलाध्यक्ष दिनेश गौतम का कहना है कि पार्टी विरोधी गतिविधयों की हाईकमान से शिकायत हुई थी जिसके कारण उन्हें निकाल दिया गया है।
एमिम के पूर्वांचल प्रभारी अली अहमद ने बताया कि मो0 मुकीम जहां दो बार विधायक और एक बार सांसद रहे वही मलिक कमाल युसुफ कई बार डुमरियागंज से विधायक और सपा सरकार में मंत्री रहे है और जनपद में मुस्लिम लीडरशिप के अगुआ रहे है। दाेनों नेताओं को पार्टियां तवज्जो नही दे रही है। हमने दोनों नेताओ से संपर्क कर आग्रह किया है कि दोनों  एमिम में आये और अपने अपने विधान सभा से चुनाव लडे़। एमिम उन दोनों वरिष्ठ नेताओं का स्वागत के साथ चुनाव लड़ने का न्योता दी है।
हलांकि दोनो नेताओं ने साफ साफ कह दिया है कि अभी किसी और दल में जाना जल्दबाजी होगी। अपने कार्यकर्ताओं से मशविरा किये बिना कोई कदम नही उठाया जायेगा। सवाल खड़ा होता है कि आखिर में जिले के इन दोनों दिग्गज नेताओं की नाव का ठहराव कहां होगा। अगर ये दोनों नेता एमिम का दामन थामेंगे तो जिले में राजनीतिक समीकरण निश्चित तौर पर बिगड़ेंगा।

Tags:

18 Comments

Leave a Reply