प्रेस कान्फ्रेंस में नवेद रिजवी और मसूद ने पेश किये बसपा अध्यक्ष शेखर आजाद के रुपया ऐठने के सबूत

November 9, 2017 4:16 pm0 commentsViews: 882
Share news

नजीर मलिक

प्रेस कान्फ्रेंस को सम्बोधित करते नवेद रिजवी और फजले मसूद

सिद्धार्थनगर। बसपा जिलाध्यक्ष शेखर आजाद और पूर्व एमएलसी लालचंद निषाद पर बीस लाख रुपये की ठगी का मुकदमा कायम होने बाद वादी पक्ष ने आज कुछ दस्तावेजी सबूत पेश कर मामले को गंभीर बना दिया है। कल मुकदमा दर्ज होने के बाद शेखर आजाद ने कहा था कि वे वादी फज्ले मसूद को पहचानते ही नहीं। शेखर आजाद ने बसपा से निष्काषित किये गये नेता नवेद रिजवी और जमील पर अप्रत्यक्ष रुप से साजिश रचने का आरोप लगाया था।

वादी फजले मसूद की शादी में मंच पर उनके बगल बैठे शेखर आजाद

आज यहां होटल सत्कार पैलेस में आयोजित प्रेस कान्फ्रेंस में पूर्व बसपा नेता नवेद रिज्वी और पीड़ित फजले मसूद  ने कहा कि बसपा अध्यक्ष शेखर आजाद का कहना कि वे फजले मसूद को नहीं जानते, पूरी तरह झूठ है। फज्ले मसूद ने अपनी शादी की फोटो मीडिया को दिखाया, जिसमें वे दूल्हा बने हैं और शेखर आजाद ठीक उनके बगल में बैठे हुए हैं। इसके अलावा उन्होंने बैंक एकाउंट और ह्वाटृस एप्प चैटिेंग भी बतौर सबूत पेश किया।

हाल तक बसपा के जोनल कोआर्डीनेटर रहे  नवेद रिजवी ने कहा कि 19.60 लाख रुपये में से शेखर ने करीब 4 लाख 82 हजार वापस भी किया है, जिसे उनके द्धारा विभिन्न बैंक एकाउंटस में जमा कराया गया है। शेखर आजाद इससे इंकार नहीं सकते। उन्होंने कहा कि उनका पार्टी से बाहर कराने में इस कांड की भी भूमिका है। जब उन्होंने अपने करीबी मसूद का पैसा वापस लौटाने के लिए दबाव बनाया तो उन्होंने उन्हें बसपा से आउट कराने की चाल चली। नावेद रिजवी ने दावा किया कि जल्द ही उनके द्धारा शेखर अजाद के एक और घोटाले का भंडाफोड़ होगा।

याद रहे कि कल बांसी कोतवाली में शेखर आजाद व लालचंद के खिलाफ दर्ज  धोखाधड़ी के मुकदमें में वादी फजले मसूद ने आरोप लगाया था कि सिद्धार्थ यूनिवर्सिटी में लिपिक की नौकरी दिलाने के नाम पर शेखर आजाद ने उनसे बीस लाख रुपये लिये।प्रश्नगत प्रकरण में शेखर का कहना था कि वे फजले मसूद नामक व्यक्ति का जानते ही नहीं। इस पर फजले मसूद ने आज प्रेस कान्फ्रेंस में एक दर्जन फोटोग्राफ दिखाया, जिसमें वह और शेखर आजाद एक साथ दिखायी पड़ रहे हैं।

 

(60)

Leave a Reply


error: Content is protected !!