कोरोना का कहरः महाराज-बस्ती के सारे हाट स्पाट सील किए गये, परिंदा पर नहीं मार सकेगा

April 9, 2020 2:16 pm0 commentsViews: 468
Share news

अजीत सिंह

गोरखपुर। प्रदेश सरकार द्वारा बुधवार को लिए गए निर्णय के अनुसार महराजगंज के चार और बस्ती के तीन कोरोना हाटस्पाट को पूरी तरह सील कर दिया गया है। बस्ती के तीनों हाॅटस्पाट शहरी क्षेत्र में हैं जबकि महराजगंज के सभी चार हाॅटस्पाट ग्रामीण क्षेत्र में हैं। महराजगंज में कोरोना के छह और बस्ती में आठ पाजिटिव केस मिले हैं।

महराजगंज में जो छह व्यक्ति कोरोना पाजिटिव पाए गए हैं, वे कोल्हुई व पुरन्दरपुर थाना क्षेत्र के हैं। यहां के चार गांव हाॅटस्पाट के रूप में चिन्हित किए गए हैं। ये सभी स्थान अब पूरी तरह सील कर दिए गए हैं।

महराजगंज जिले में अब तक 83 नमूनों की जांच की गयी है जिसमें छह पाजिटिव पाए गए हैं। इनमें 69 नमूने निगेटिव हैं जबकि आठ नमूनों की रिपोर्ट अभी नहीं आयी है। महराजगंज के नौतनवा क्षेत्र की एक महिला की इलाज के दौरान बीआरडी मेडिकल कालेज के आइसोलेशन वार्ड में छह अप्रैल की रात मौत हो गयी थी। इस मरीज का बीआरडी मेडिकल कालेज ने कोरोना जांच नहीं करायी लेकिन महराजगंज जिले के स्वास्थ्य विभाग ने महिला के घर के चार परिजनों का कोरोना जांच कराने के लिए नमूना भेजा है।

बस्ती जिले में अभी तक आठ व्यक्ति कोरोना पाजिटिव पाए गए हैं जिनमें एक की मौत हो चुकी है। इस जिले के छह कोरोना पाजिटिव मृत युवक के सगे-सम्बन्धी हैं जबकि सातवां व्यक्ति वह था जिसने मृत युवक को इलाज के लिए बस्ती जिला अस्पताल में भर्ती कराया था। बस्ती के इस युवक की 30 मार्च को बीआरडी मेडिकल कालेज में इलाज के दौरान मौत हो गयी थी।

यह युवक करीब 17 घंटा बीआरडी मेडिकल कालेज में भर्ती रहा। इसके पूर्व वह दो दिन जिला अस्पताल में भर्ती रहा। जिला अस्पताल में भर्ती होने के पहले उसका इलाज दो चिकित्सकों ने किया था। बीआरडी मेडिकल कालेज में युवक को पहले मेडिसिन विभाग के वार्ड संख्या 14 में भर्ती कर लिया गया था जबकि भर्ती किए जाने के समय उसे सास लेने में काफी तकलीफ हो रही थी। हालत बिगड़ने पर उसे आईसीयू में ले जाया गया लेकिन उसकी जान नहीं बच सकी। युवक की मौत के बाद शव को परिजनों को सौंपने में भी प्रोटोकाल का पालन नहीं किया गया और शव को चादर में लपेट कर परिजनों को सौंप दिया गया। इस युवक की मौत के बाद उसके लार का नमूना लिया गया जो जांच में पाजिटिव मिला।

इसके बाद युवक के परिजनों और प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष सम्पर्क में आए लोगों की जांच की गई और उन्हें क्वारंटाइन कियाग किया गया। बस्ती जिला अस्पताल के दो चिकित्सकों समेेत 14 मेडिकल स्टाफ को क्वारंटाइन किया गया है। बीआरडी मेडिकल कालेज के दो रेजीडेंट डाॅक्टरों समेत आठ मेडिकल स्टाफ को क्वारंटाइन किया गया। दोनों स्थानों के मेडिकल स्टाफ की जांच रिपोर्ट निगेटिव आने से बड़ी राहत मिली है।

इस युवक के परिजनों और उसके सम्पर्क में आए लोगों की जांच की गयी तो सात लोग पाजिटिव पाए गए। इनमें युवक की मां, दो भाई, गोरखपुर रहने वाला बहनोई, चाची व ममेरा भाई शामिल हैं। इसके अलावा युवक को जिला अस्पताल मे भती कराने वाल एक युवक भी पाजिटिव पाया गया। ये सभी लोग एल वन हास्पिटल सीएचसी मुंडेरवा में भर्ती हैं।

बस्ती के मृत युवक के जनाजे में सिद्वार्थनगर रहने वाला उसका बहनोई भी शामिल हुआ था। इस कारण सिद्धार्थनगर जिला प्रशासन ने उसको और उसके घर वालों की जांच करायी हैं। जांच रिपोर्ट निगेटिव आयी है। इसके अलावा बीआरडी मेडिकल कालेज में उन तरीखों में भर्ती एक बुजुर्ग व उनकी तीमारदारी करने वाले व्यक्ति की भी जांच करायी गयी है। इनकी भी जांच रिपोर्ट निगेटिव मिली है।

सिद्धार्थनगर जिला प्रशासन ने एहतियात दोनों परिवारों से सम्बन्धित दो गांवों को सील किया है। सिद्धार्थनगर जिले से 26 नमूनों को जांच के लिए गोरखपुर स्थित रीजनल मेडिकल रिसर्च सेंटर भेजा गया था। ये सभी नमूनों की रिपोर्ट निगेटिव आयी है।

(430)

Leave a Reply


error: Content is protected !!