नारी की अदा और डुमरियागंज की सियासत का कोई ठिकाना नहीं, सलमान मलिक लड़ेंगे प्रमुख का चुनाव

January 21, 2016 4:41 PM1 commentViews: 1677
Share news

नजीर मलिक

कार्यकर्ताओं के बीच चुनाव लड़ने की घोषणा करते पूर्व प्रमुख सलमान मलिक

कार्यकर्ताओं के बीच चुनाव लड़ने की घोषणा करते पूर्व प्रमुख सलमान मलिक

कहते हैं कि नारी की अदा और डुमरियागंज की सियासत को समझ पाना बहुत कठिन है। यह बात आज फिर साबित हो गई है। यहां से ब्लाक प्रमुख चुनाव लड़ने प्रति अनिच्छुक दिख रहे पूर्व प्रमुख सलमान मलिक ने अचानक जंग में उतरने का एलान कर इलाके की पूरी राजनीति को गर्म कर दिया है।

खबर है कि डुमरियागंज के विधायक कमाल युसुफ मलिक के बेटे सलमान मलिक डुमरियागंज ब्लाक से प्रमुख का चुनाव लड़ेंगे। इससे पहले वह परिदृश्य से बाहर थे। उनकी जगह पर पूर्व प्रमुख के पति सुहेल फारूकी, एक और पूर्व प्रमुख सगीर मलिक के अनुज, पप्पू श्रीवास्तव आदि चुनाव लड़ने के दावेदार थे। यह तीनों सपा खेमे के थे।

अचानक राजनीति ने पलटा खाया। समाजवादी पार्टी की बैठक मेंचार दिन पूर्व एक जबरदस्त घटनाक्रम हुआ। बैठक में अनेक सपाइयों ने सुहेल फारूकी की पत्नी के पिछले कार्यकाल को बेहद खराब बताते हुए उनका खुला विरोध कर दिया। उनके स्थान पर सपा नेता राम कुमार उर्फ चिनकू यादव के पिता मिठ्ठू प्रसाद यादव का नाम आगे बढ़ाया गया।

बताया जाता है कि अन्य दावेदारों ने भी स्पष्ट कर दिया कि अगर मिठ्ठू प्रसाद यादव पार्टी के प्रत्याशी बनाये जाते हैं, तो वह भी अपनी दावेदारी वापस ले लेंगे। बताते हैं कि पार्टी बैठक में इसके बाद मिठ्ठू यादव के नाम पर प्रचंड बहुमत से मुहर लग गई।

पार्टी के सूत्रों का कहना है कि सपा की बैठक में यह एलान ही महत्वपूर्ण बदलाव लेकर आया। इससे बसपा, भाजपा और कांग्रेस खेमा चौकन्ना हुआ। लोगों का मानना था कि जिला पंचायत अध्यक्ष, दो–दो जिला पंचायत सदस्य पद पर कब्जे के बाद अगर प्रमुख पद भी उनके परिवार में गया तो डुमरियांगंज की सियासत में भारी बदलाव आ जायेगा।

वहां की सियासत की गहरी समझ रखने वाले एक सूत्र के मुताबिक विपक्षी दलों का मानना है कि हाल के दिनों में अचानक धूमकेतु की तरह उभरे चिनकू यादव का मुकाबला सलमान मलिक ही कर सकते हैं। पिता एमएलए हैं। खानदानी असर है। पुराना सपाई होने के कारण उनकी सपा में अभी भी पकड़ है। इसके अलावा वह आर्थिक रूप से भी बेहद मजबूत हैं। इसलिए बसपा, भाजपा व अन्य दलों ने अंदरूनी तौर पर उन्हें संयुक्त विपक्ष का प्रत्याशी मान लिया है।

फिलहाल अब एक बात तय हो चुकी है कि डुमरियागंज में प्रमुख के लिए मुकाबला चिनकू यादव के पिता मिठ्ठू यादव और कमाल यूसुफ मलिक के बेटे सलमान मलिक के बीच होगी। लेकिन असली जंग तो चिनकू यादव व कमाल यूसुफ मलिक के बीच मानी जा रही है। इंतजार कीजिए जंग यकीनन दिलचस्प होने जा रही है। यकीनन यह जंग डुमरियागंज की सियासत का नया रोड मैप तैयार करेगी।

 

Tags:

1 Comment

Leave a Reply