Exclusive-सपा में टिकट बंटवारा यानी, ‘भीलों ने लूट लिया वन, राजा को खबर तक नहीं’

January 23, 2016 11:42 AM1 commentViews: 842
Share news

 

नजीर मलिक

akhi

सिद्धार्थनगर। समाजवादी पार्टी द्धारा जारी सिद्धार्थनगर के ब्लाक प्रमुख उम्मीदवारों की सूची चाैंकाने वाली है। 14 विकास खंडों में पांच टिकट तो पार्टी नेताओं के परिजनों को चले गये और कई गैर निष्ठावानों को दे दिए गये। सियासी जंगल के इस बंटवारे पर राजा का मौन अन्ततः राजा को ही नुकसान पहुंचाएगा।

सूची पर गौर करिए, इटवा ब्लाक से प्रमुख उम्मीदवार बनाई गईं श्रीमती सूर्यमती पांडेय को प्रमुख का टिकट मिला है। वह विस अध्यक्ष माता प्रसाद पांडेय की पत्नी हैं। उनकी बहू पहले से ही प्रधान है।

इसी तरह डुमरियागंज का उम्मीदवार सपा नेता चिनकू यादव के पिता मिठ्ठू यादव का बनाया गया है। इनकी पत्नी और भाई जिला पंचायत सदस्य हैं तो जिलाध्यक्ष की अनुज बहू रीना चौधरी को भनवापुर ब्लाक का उम्म्ीदवार बनाया गया है। जिलाध्यक्ष की पत्नी भी कोआपरेटिव बैंक की चेयरमैन है।

इसी तरह बांसी ब्लाक का टिकट पूर्व विधायक लाल जी यादव के बेटे सुरेन्द्र यादव को दिया गया है। इनकी पत्नी नीलम यादव वर्तमान में जिला पंचायत सदस्य और निवर्तमान ब्लाक प्रमुख हैं। शोहरतगढ़ में यह टिकट विधायक लालमुन्नी सिंह की पुत्रवधू नीलिमा सिंह को दिया गया है।

उस्का ब्लाक में तो और गजब हुआ है। यहां टिकट एक पूर्व भाजपाई दयाराम लोधी की पत्नी को मिला है। दयाराम लोधी समाजवादी पार्टी में कब आये, इसे कोई कार्यकर्ता भी नहीं बता रहा है। ऐसे कई और मामले भी बताये जा रहे हैं।

हालांकि पार्टी का कोई कार्यकर्ता अनुशासन के भय से खुल कर इसका विरोध नहीं कर पा रहा है, मगर अंदरखाने की बातचीत में इस पर आक्रोश व्यक्त किया जा रहा है। एक कार्यकर्ता का कहना है कि पार्टी के बुरे दिन में लाठियां तो वह खाते हैं, मगर अच्छे दिन में सपा के सियासी भील आपस में सारा माल बांट लेते हैं।

एक अन्य कार्यकर्ता का कहना है अखिलेश सरकार सूबे में अच्छा काम कर रही है, लेकिन पूरे सूबे के सपाई भील पार्टी का सियासी जंगल ही बेचने पर तुले हैं, जाहिर है विधानसभा चुनावों में जनता इसका सबक पार्टी को सिखा सकती है।

इस बारे में सपा जिलाध्यक्ष अजय उर्फ झिनकू चौधरी का कहना है कि टिकट पार्टी के नियम के तहत ही दिये गये। जहां तक उस्कर ब्लाक के प्रत्याशी की बात है तो उनकी सदस्यता विधानसभा क्षेत्र अध्यक्ष ने कराई होगी और विधायक ने संस्तुति की होगी तभी उनके नाम पर फैसला हुआ है।

1 Comment

  • Wah re mere siddharth nagar ko raajneeti.

    Feeling ashamed on things happening in the politics of siddharth nager, how could that possible that people are supporting only one family.

    None of them are looking towards growth, education, health, poverty.

    These people selecting these craps in society and then start creeping about thing.

Leave a Reply