सपा अध्यक्ष लालजी यादव पर लूट व मारपीट का मुकदमा, मगर सच्चाई कुछ और है?  

June 9, 2024 1:03 PM0 commentsViews: 1674
Share news

नजीर मलिक

चित्र परिचय— सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष के साथ पूर्व विधायक लालजी यादव

सिद्धार्थनगर। बांसी से सपा के पूर्व विधायक व वर्तमान पार्टी जिलाध्यक्ष लालजी यादव सहित उनके तीन सहयोगियों पर बांसी कोतवाली में सोने की चैन की लूट और मारपीट का मुकदमा दर्ज किया गया है। शुक्रवार को हुई घटना में बांसी क्षेत्र के ही कटहा निवासी पिपरहिया ग्राम पंचायत के प्रधान प्रतिनिधि की तहरीर पर पुलिस ने यह कार्रवाई की है। परन्तु  तहरीर के मुताबिक किसी प्रधान प्रतिनिधि से अकारण मारपीट करने और उनकी सोने की  चेन लूटने का मामला किसी के गले से नही उतर पा रहा है। स्वयं लाल जी यादव के अनुसार उन पर दर्ज मुकदमा राजनीतिक है। तो आइये देखते हैं कि वास्तविकता क्या है।

कोतवाली में दी गई तहरीर के मुताबिक, पिपरहिया ग्राम पंचायत के प्रधान प्रतिनिधि गौरीशंकर निषाद ने शुक्रवार रात बांसी कोतवाली पुलिस को तहरीर दी, जिसके अनुसार, शुक्रवार शाम को वह ब्लॉक कार्यालय गया था। वहां पूर्व विधायक लालजी यादव, हरैया नानकार के ग्राम प्रधान राजेश पासवान, गौरव व अशोक ने गोलबंद होकर उसे गाली दी और मारापीटा। उसकी सोने की चेन भी छीन ली। गौरीशंकर की तहरीर के आधार पर पुलिस ने पूर्व विधायक समेत चारों आरोपियों पर लूट व मारपीट सहित अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया। इस संबंध में बांसी कोतवाल बिन्देश्वरी मणि त्रिपाठी का कहना है कि मुकदमा पंजीकृत कर मामले की जांच की जा रही है। उसके बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी। वहीं, पूर्व विधायक लालजी यादव का कहना है कि यह मुकदमा राजनीति से प्रेरित है। इसका कोई आधार नहीं है।

पुलिस की तहरीर से हट कर यदि ब्लाक कार्यालय परिसर और उसके आसपास जाकर लोगों से पूछताछ करें तो और ही कहनी सुनने को मिलती है और बात हाल में हुए लोकसभा चुनाव से जुड़ जाती है। ब्लाक परिसर में मौजूद लोगों के अनुसार दोनों पक्षों में कोई दुश्मनी नहीं है कि लालजी ऐसा करें। लोगों का कहना है कि घटना की शाम प्रधान प्रतिनिधि आये और वार्ता के दौरान ब्राह्मणों की भूमिका को लेकर पूरे ब्राह्मण समाज को अपशब्द कहने लगे। जब पूर्व विधायक और जिलाध्यक्ष लालजी यादव ने उनहें अपशब्द कहने पर डांटा तो बात तू तू मै मै तक बढ़ गई। इस पर प्रधान प्रतिनिधि गौरी शंकर निषाद, लालजी यादव की तरफ लपके। कुछ के अनुसार गौरी शंकर ने उन पर हाथ भी छोड़ दिया। इस पर वहां खड़े लालजी यादव के कुछ समर्थकों ने गौरीशंकर को कई तमाचे रसीद कर दिये। तमाशबीनों के अनुसार बात सिर्फ इतनी है जिस पर उन्हें लूट का मुल्जिम बना दिया गया।

इस बारें में प्रधान प्रतिनिधि गौरीशंकर जहां अपनी तहरीर के अनुसार घटना को सच बताते हैं वहीं सपा जिलाध्यक्ष लालजी यादव पूरे मामले को राजनीतिक कहते हैं। ऐसे में सच क्या है यह पुलिस की जांच से सामने आ जायेगा। फिलहाल इस घटना की चहुंओर जोर शोर से चर्चा हो रही है।

 

 

 

 

Leave a Reply