बारात निकलने से पूर्व दूल्हा पक्ष व ग्रमीणों में संघर्ष 9 घायल, पूरा गांव पुलिस छावनी में तब्दील

June 17, 2023 12:59 PM0 commentsViews: 1204
Share news

मेहमानों के बल पर पुरानी दुश्मनी का बदला लेना चाहता था अम्बरीश परिवार, गांव वालों ने सिखाया सबक, गांव में चप्पे चप्पे पर पुलिस

नजीर मलिक

सिद्धार्थनगर। मिश्रौलिया थाना क्षेत्र के होरिलापुर गांव में रास्ते को लेकर पूर्व में हुए विवाद ने शुक्रवार शाम 7 बजे दो पक्षों में जम कर मार पीट हुई जिसमें लाठी डंडे और ईंट पत्थर का खुल कर प्रयोग हुआ। घटना में 9 लोग घायल हो गये हैं। घटना में एक पक्ष को गलत मानते हुए गांव वालों ने मारपीट करने वाले व्यक्ति के घर से निकल रही बारात को रोक दिया। मौके पर पहुंचे एसओ मिश्रौलिया पर कार्रवाई में लापरवाही का आरोप लगाते हुए ग्रामीणों ने बारात को घेर लिया। बड़ी मुश्किल से बारातियों को बचा कर हालात पर काबू पाया जा सका। फिलहाल सभी घायलों को अस्पताल भेज कर गांव में भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। पलिस के मुताबिक हालात नियंत्रण में है।

बताया जाता है कि होरिलापुर गांव निवासी नंदू निषाद और अंबरीश यादव से रास्ते को लेकर काफी समय से विवाद चल रहा है। अभी कुछ दिन पहले इसी को लेकर दोनों पक्ष आमने-सामने आ गए थे। मारपीट में दोनों पक्ष के लोग चोटिल हुए थे। पुलिस ने दोनों पक्ष के खिलाफ मारपीट सहित अन्य धारा में केस दर्ज करके चालान कर दिया था। बताया जा रहा है कि शुक्रवार को अंबरीश के भाई गिरीश के लड़के की शादी थी और बरात निकलने वाली थी। नंदू का आरोप है कि उसके घर पर रिश्तेदार जुटे हुए थे। उन्हीं के बल पर वह घर पर चढ़ आया और उसके साथ कुछ लोग और पहुंच गए। लाठी डंड़े से दौड़ा-दौड़ाकर पीटने लगे। यह देख निषाद बिरादरी के लोग भी आक्रोशित हो गए और दौड़ा लिए। सभी लोग घर पर भाग गए। मारपीट में कई लोग जख्मी हो गए।

बताया जाता है कि इसी बीच मिश्रौलिया पुलिस पहुंच गई। उधर आक्रोशित लोग बरात नहीं निकलने दे रही थे,  मौके पर पहुंचे मिश्रौलिया एसओ ने जब बारात निकलने दने के लिए दूसरे पक्ष से कड़ाई से कहा तो निषाद समाज के लोग आक्रोशित हो गए और जातीय पक्ष लेने का आरोप लगाते हुए एसओ को घेर लिए। मारने पीटने की नौबत आ गई थी, लेकिन पुलिस कर्मियों ने तत्परता दिखाई और किसी तरह से भीड़ से बाहर निकले, जिससे उनकी जान बची।

भीड़ के आक्रोश को देखते हुए एसओ कठेला समय माता थाना संतोष कुमार यादव, एसओ गोल्हौरा बालजीत राव डायल-112 की तीन गाड़ी और थाने की पुलिस पहुंच गई। दोनों तरफ तनातनी का माहौल बना रहा। वहीं, मामले की जानकारी मिलते ही सीओ इटवा जयराम भी पहुंच गए। वह लोगों को मनाने में जुटे रहे। मारपीट में पहले पक्ष से नंदू, फूलमती पत्नी दलसिंगार, उसकी पुत्री बबिता, संजय, प्रदीप और मुरली को चोटे आई हैं। अन्य लोगों के घायल होने की आशंका है। वहीं दूसरे पक्ष के अंबरीश यादव, जगदीश यादव, मनोज यादव और प्रीती को चोट आई है। घायलों को बांसी सीएचसी पहुंचवाया गया।

इस घना के बाद पूरे गांव को पलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया है। शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए मिश्रौलिया, कठेला समय माता थाना, शोहरतगढ़, गोल्हौरा थानाध्यक्ष व जोगिया और बांसी कोतवाल सहित पूरी टीम के साथ मौके पर पहुंच गए। गांव के हर गली में सुरक्षाकर्मी तैनात कर दिए गए हैं। वहीं शाम आठ बजे एएसपी सिद्धार्थ ने भी गांव में पहुंच कर सुरक्षा का जायजा लिया और पुलिस को जरूरी निर्देश दिया।

पुलिस ने समझाकर बरात भिजवाई
मारपीट के बाद ग्रामीणों ने बरात को रोक लिया था। तीन थानों की पुलिस टीम के पहुंचने के बाद जिम्मेदार अफसरों ने लोगों को किसी तरह से समझाया फिर बरात जा सकी। शादी अंबरीश के भाई गिरीश यादव के लड़के की है। जो संतकबीरनगर जनपद के बखिरा थाना क्षेत्र के राजघाट गांव के लिए गई है। इस बारें में गांव वालों का कहना था कि शादी के दिन अम्बरीश यादव के परिवार द्बारा हमला करने से हालात खराब हुए। बारात निकलने के दिन उन्हें यह कृत्य नहीं करना चाहिए था।

सीओ इटवा ने कहा—
इस बारें में सीओ इटवा जयराम ने कहा कि रास्ते के विवाद के लेकर दो पक्षों में मारपीट हुई है। मौके पर पुलिस फोर्स मौजूद है। गांव में शांति व्यवस्था कायम है। घायलों को अस्पताल पहुंचाया गया है। तहरीर मिल गई है।  मृकदमा दर्ज कर कार्रवाई की  जा रही है। उन्होंने बताया कि अब हालात काबू में हैं। गांव में शांति है।

Leave a Reply