सिद्धार्थनगर शहर सीटः विकास के साथ जाति और धर्म  की चाश्नी से लबरेज है चुनाव

May 7, 2023 2:18 PM0 commentsViews: 419
Share news

नजीर मलिक

सिद्धार्थनगर। नगर पालिका परिषद सिद्धार्थनगर में इस बार विकास के साथ जाति से भी चुनावी कवायद संवारी जा रही है। ऐसे में जहां ज्यादातर प्रत्याशी विकास के वायदे पर मैदान में जीत के कुलाबे बांध रहे हैं, वहीं  कतिपय प्रत्याशियों के जीत के दावे में जाति और धर्म के समीकरण खुल कर सामने आने लगे हैं।

नगर पालिका परिषद सिद्धार्थनगर के चुनाव में वैसे तो सभी प्रत्याशी जीत के दावे कर रहे हैं, लेकिन आधा दर्जन ऐसे प्रत्याशी हैं, जिन्होंने चुनावी गणित में खुद को पास मान लिया है। सभी वर्गों के प्रत्याशियों ने जाति के आधार पर भी अपने मतों का अनुमान लगाना शुरू कर दिया है। अंतिम दौर में जिनका समीकरण ध्वस्त होगा, उसकी नैया बीच मझधार में डूबेगी।

नपा सिद्धार्थनगर में 59,473 मतदाता है, जिनमें 28,470 महिला हैं। चुनाव में कुल मतदाताओं में मुस्लिम, ब्राह्मण, बनिया, दलित, यादव, लोधी, क्षत्रिय एवं कायस्थ जैसे जाति वर्ग में मतदाता बांट दिए गए हैं। सभी प्रत्याशियों के अपने अपने दावे हैं। इस बार श्याम बिहारी जायसवाल ऐसे प्रत्याशी हैं, जो निवर्तमान चेयरमैन हैं, जबकि अन्य सभी प्रत्याशी निकाय चुनाव के मैदान में नए चेहरे हैं।  यह प्रत्याशी अपनी जीत के बारे में क्या कहते हैं यह जानना भी दिलचस्प होगा।

– गोविंद माधव,  प्रत्याशी भाजपा

गविंद माधव कहते हैं कि भाजपा विचारधारा की पार्टी है। भाजपा ही ऐसी पार्टी है, जिसमें सभी जाति वर्ग का वोट है। भाजपा जाति नहीं बल्कि विकास की राजनीति करती है। विकास और सुशासन के मुद्दे पर मैं चुनाव जीतूंगा।

– रामसेवक लोधी, प्रत्याशी सपा

राम सेवक लोधी के मुताबिक ‘ मैं सपा प्रत्याशी हूं और सभी वर्गों का वोट मुझे मिल रहा है। सपा के बेस वोट यादव, मुस्लिम के साथ लोधी वर्ग के वोट मुझे अधिक मिलेंगे। इसके साथ ही सामान्य मतदाता विकास के लिए मुझे वोट दे रहा है।

– संजू सिंह, निर्दल

शहर के मतदाता शहर के विकास की तस्वीर देख रहे हैं। बुनियादी सुविधाएं ठीक नहीं है। मैं चार साल से नगर क्षेत्र में जनता के लिए हर संभव कार्य किया है। लोगों में मेरे प्रति लगाव है। मुझे हर जाति वर्ग का वोट मिल रहा है। लोगों को भरोसा है कि मैं जीतूंगी तो शहर की तस्वीर बदल जाएगी, इसलिए मुझे समर्थन मिल रहा है।

श्याम बिहारी जायसवाल, प्रत्याशी निर्दल

विकास के लिए मुझे जनता फिर अवसर दे रही है। विकास के कारण ही व्यापारी मुझे वोट दे रहा है। चुनाव में ब्राह्मण और बनिया गठजोड़ है। मैं वकील हूं, मेरा पुत्र शिक्षक है और बेटी-दामाद डॉक्टर, ये वर्ग मेरे साथ है।

– हरिशंकर लाल श्रीवास्तव, कांग्रेस

मैं चुनाव जीत रहा हूं। शहर में कायस्थ, ब्राह्मण, यादव, दलित व मुस्लिम मतदाता मुझे वोट दे रहा है। कांग्रेस के मतदाता पार्टी प्रत्याशी को ही वोट देंगे। विकास के लिए मतदाता मुझे अवसर देना चाहता है।

– राकेश दत्त त्रिपाठी, बसपा

बसपा प्रत्याशी हूं, बसपा के कोर वोट दलित के साथ ब्राह्मणों का मुझे अधिक वोट मिल रहा है। शहर के लोग विकास करने वाले प्रत्याशी की जीत चाहते हैं इसलिए मुझे हर वर्ग के लोग वोट करने जा रहे हैं।

– गुलाम नबी आजाद, आजाद समाज पार्टी

पिछली बार मेरी पत्नी निर्दलीय चुनाव मैदान में थीं तो दूसरे स्थान रहीं। इस बार मैं आजाद समाज पार्टी से चुनावी मैदान में हूं। मुस्लिम समाज के साथ दलित वर्ग का वोट मुझे मिल रहा है। इस बार मेरी जीत सुनिश्चित है, मैं विकास करूंगा।

 

Leave a Reply