श्रद्धांजलिः अलविदा सुभाष गुप्ता, तुम न जाने किस जहां में खो गये?

December 30, 2020 2:52 PM0 commentsViews: 1265
Share news

शवयात्रा में शामिल हुए हजारों लोग, अर्थी उठी तो परिजिनों का बिलखना देख निकले तमाम आखों से आंसू, हिन्दू हितों के सजग प्रहरी थे सुभाष गुप्ता

देेखेेंं विडियो

https://youtu.be/lHwZFmwLacI

नजीर मलिक / निजाम अंसारी

सिद्धार्थनगर। जिले का प्रमुख टाउन बहुत उदास था। हालांकि दोपहर की धूप खिलखिला रही थी, उसने सर्द कोहरे को काट कर रख दिया था, मगर कस्बे वासियों के दिलों पर छाया कोहरा और घना हो चुका था। बानगांगा तिराहे पर खड़े लोगों की हजारों जोड़ी आंखें गीली थीं। तिराहे और मकान के सामने तिल धरने की जगह न थी। बाहर लोग लरजती जुबान से हिंदू युवा वाहनी के दिवंगत नेता सुभाष गुप्ता अमर रहे के नारे लगा रहे थे। इस मौके पर घर से निकल रही परिजनों की चीखें ‘अमर रहे’ के नारों में छिपी वेदना को और भी पीड़ाजनित बना रही थीं। जब दिवंगत नेता सुभाष गुप्ता की अर्थी उठी तो उनकी विधवा/ नगर पंचायत अध्यक्ष श्रीमती बबिता कसौधन समेत बेटियों, भतीजियों व अन्य परिवारीजनों की चीखें और पछाड़ें खाकर गिरना देख कर अर्थी उठाने वालों की हिम्मतें भी जवाब दे रहीं थीं।

शवयत्रा के समय उमड़ी भीड़

शाश्वत मौत की परम्परा के अधीन अर्थी तो उठनी ही थी। अर्थी उठी, उसकी नगर की परिक्रमा कराई गई और फिर बेटे अमित और सौरभ सहित अर्थी को कंधा देने वाले तमाम लोग बोझिल कदमों से बानगंगा नदी की ओर चल पड़े। जहां आज अपरान्ह उनके बड़े पुत्र ने मुखाग्नि दी और हियुवा नेता सुभाष गुप्ता का पार्थिव पंचतत्व में विलीन हो गया। शरीर तो नश्वर था, उसे जाना ही था, मगर कस्बेवासियों के अनुसार वे सभी के जहनों में जिंदा हैं। विकास के प्रहरी के रूप में, हिंदू हितों के रक्षक के रूप में एक दबंग नेता के रूप में। हालांकि कई बार उन्हें इन सबकी कीमत भी चुकानी पड़ी।

स्व. सुभाष गुप्ता के घर पर संवेदना देेतेे राजनीतिज्ञ

हिंदू युवा वाहिनी के मंडल प्रभारी सुभाष गुप्ता के जीवन चरित का मूल्यांकन भविष्य में चाहे जिस रूप में हो, परन्तु इतना तो कहा ही जी सकता है कि वे अपने समर्थक वर्ग में बेहद लोकप्रिय थे और उनके लिए कुछ भी करने को तैयार रहते थे। वे सीएम योगी के करीब बताये जाते थे। कहा तो यहां तक जा रहा है कि अगले विधानसभा चुनाव में शोहरतगढ़ से उम्मीदवार बनाए जाने वाले थे। उनकी बढ़ती राजनैतिक शक्ति से कई लोग संशिकित भी बताए जाते थे। उनकी अतिम यात्रा में शामिल हुजूम को देख कर ही उनकी लोकप्रियता का अंदाजा लगाया जा सकता है।

शवयाात्रा में बानगंगा घाट पर पहुंचे गणमान्य

डुमरियागंज सांसद जगदंबिका पाल, भाजपा जिलाध्यक्ष गोविंद माधव, विधायक अमर सिंह, विधायक राघवेंद्र सिंह, विधायक श्याम धनी राही, अंसार हॉस्पिटल के सर्जन डॉक्टर सरफ़राज़ अंसारी, डा. एजाज अंसारी, नगर पंचायत बढ़नी के चेयरमैन निसार अहमद बागी, पूर्व नगरपालिका चेयरमैन एस. पी. अग्रवाल, पूर्व नगरपालिका चेयरमैन जमील सिद्दीकी,  इज़हार नेता, अल्ताफ हुसैन, नेता हामिद चौधरी, बसाहिया प्रधान राजेन्द्र यादव, नवाब खान, पप्पू प्रधान,  सभासद बाबूजी अंसारी, नगर अध्यक्ष समाजवादी पार्टी संजीव कुमार जायसवाल, समाजसेवी राजन भाई सहित तमाम दलों के स्थानीय नेता, नगर पंचायत शोहरतगढ़ के सभासद, व्यापारी, समाजसेवी आदि उपस्थित रहे।

यादेः अतीत में पत्नी बबिता कसौधन के साथ एक कार्यक्रम के खुशनुमा क्षण

Leave a Reply