शिक्षामित्रों ने निकाली बाइक रैली, सांसद से लगाई गुहार, सौंपा ज्ञापन

September 3, 2023 4:28 PM0 commentsViews: 409
Share news

अजीत सिंह 

सिद्धार्थनगर। उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षामित्र संघ के जिलाध्यक्ष इन्द्रजीत यादव के नेतृत्व में रविवार को सांसद जगदम्बिका पाल को उनके आवास पर ज्ञापन सौंपा। सैकड़ों शिक्षा मित्रों ने बीएसए कार्यालय से बाइक रैली निकाल कर सांसद को 6 सूत्रीय मांग पत्र देते हुए कहा कि डेढ़ लाख शिक्षामित्रों की समस्या निराकरण के लिए प्रदेश के मुख्यमंत्री एव देश के प्रधानमंत्री से वार्ता करें।

ज्ञापन लेने के बाद आवास पर शिक्षामित्रों को सम्बोधित करते हुए सांसद जगदम्बिका पाल ने कहा कि शिक्षामित्र पिछले 22 वर्षों से शिक्षण कार्य कर रहे हैं। आप सभी के समस्याओं के समाधान के लिए समय-समय पर मुख्यमंत्री व शिक्षा मंत्री से जोरदार पैरवी किया गया हैं। आगे भी देश के यशस्वी प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री से वार्ता करके स्थाई समाधान के लिए बात किया जायेगा।

जिलाध्यक्ष इंद्रजीत यादव ने कहा उत्तर प्रदेश के शिक्षामित्र गांव के गरीब शोषित वंचित पिछड़ों के बच्चों को शिक्षा दे रहे हैं। जिन्हें पिछले छह वर्ष से 10 हजार अल्प मानदेय दिया जा रहा है। जिससे उनके परिवार का भरण पोषण नहीं हो पा रहा है। आर्थिक तंगी और मानसिक अवसाद के चलते 6000 शिक्षामित्र मृत्यु को प्राप्त हो चुके हैं।

जिला संरक्षक श्याम नारायण त्रिपाठी ने कहा 25 जुलाई 2017 को सुप्रीम कोर्ट से समायोजन निरस्त होने के बाद आरटीई एक्ट संशोधित कानून भारत का राजपत्र संसद का कानून बना था। जिसमें जिस पद पर जो था, उसको चार वर्ष की छूट देकर योग्यता पूरी करने का समय दिया गया था। सरकार ने उसको 18 वर्षों से सेवा दे रहे शिक्षामित्रों पर लागू नहीं किया और रिलैक्सेशन भी नहीं दिया।

शिक्षा मित्रों की प्रमुख मांगे निम्न हैं- भारत का राजपत्र 10 अगस्त 2017 के अनुसार जो रिलैक्सेशन राजपत्र में दिया गया था। उसे 22 वर्ष से सेवारत शिक्षामित्रों पर लागू करके सहायक अध्यापक बनाया जायें। टीईटी और सीटीईटी पास कर चुके शिक्षामित्रों को उत्तराखण्ड और हिमाचल प्रदेश के आधार पर आयु सीमा और अनुभव को आधार बनाकर बिना किसी परीक्षा के सहायक अध्यापक बनाया जायें।

शेष शिक्षामित्रों को नई शिक्षा नीति के अन्तर्गत नियमावली बनाकर समायोजित करके 12 माह का नियमित वेतनमान निर्धारित किया जायें। मृतक शिक्षामित्र परिवार को आर्थिक मदद एवं परिवार के एक सदस्य को नौकरी प्रदान की जायें। जो शिक्षामित्र मूल विद्यालय जाने से वंचित रह गये थे उन्हें सुविधा अनुसार विद्यालय एवं महिला शिक्षा मित्रों को उनके ससुराल के जनपद में स्थानान्तरित करने का आदेश किया जायें।

इस अवसर पर अशोक कुमार मिश्रा, केसरी प्रसाद, जगदीश कुमार, राम प्रकाश, यार मोहम्मद, रामु निराला, राघवेन्द्र मिश्र, रूबी खातून, अर्चना श्रीवास्तव, अमित सिंह, संकटा प्रसाद, राधेश्याम यादव सहित तमाम लोग उपस्थित रहे।

Leave a Reply