शिक्षा सेवा अधिकरण अध्यापकों व शिक्षणेत्तर कर्मियों के लिए भष्मासुर है- शिक्षक विधायक ध्रुव त्रिपाठी

March 8, 2021 7:01 PM0 commentsViews: 146
Share news

 

अजीत सिंह

सिद्धार्थनगर। उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष राधेरमण त्रिपाठी की अध्यक्षता में बीएसए कार्यालय पर सोमवार को अपनी मांगों के निस्तारण और उत्तर प्रदेश शिक्षा सेवा अधिकरण विधेयक को समाप्त करने के लिए शिक्षकों ने धरना दिया। शिक्षक विधायक ध्रुव कुमार त्रिपाठी ने धरने को समर्थन दिया।

 

उन्होंने कहा कि शिक्षा सेवा अधिकरण अध्यापकों व शिक्षणेत्तर कर्मियों के लिए भष्मासुर है। सरकार विभिन्न माध्यम से कर्मचारियों का शोषण करने का विकल्प बना रही है। संघर्ष के बदौलत हासिल उपलब्धियों को सरकार धीरे-धीरे समाप्त कर रही है। अपने वजूद को बचाने के लिए एकजुट हो संघर्ष को तैयार रहना होगा। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि अपने मन की बात करने के बजाय कर्मचारियों के लिए पुरानी पेंशन बहाल कर उनका मन खुश करना चाहिए। दुखी मन से कोई भी कार्य सुव्यवस्थित नही होता।

 

राधेरमण त्रिपाठी ने कहा कि एक अधिकारी पूरे विभाग को कठपुतली बना दिया है। नित नए आदेश जारी कर समाज में शिक्षकों को बदनाम करने की साजिश रचता है। इसे शिक्षा व्यवस्था को निजी हाथों में में सौंपने की तैयारी के रूप में देखा जा सकता है। शिक्षा सेवा अधिकरण शिक्षकों के लिए डेथ वारंट जैसा है। कहा कि काला कानून समाप्त होने तक आंदोलन करेंगे।

 

मंत्री योगेंद्र पांडेय ने कहा कि शिक्षक समस्याओं का अंबार लगा हुआ है जबकि बीएसए के कान पर जूं नही रेंग रहा है। आरोप लगाया कि धनादोहन हेतु कार्यों को लटकाया जा रहा है। अध्यापकों को स्वतंत्र रूप से उनका मुख्य कार्य शिक्षण नही करने दिया जा रहा है।

 

इस दौरान चंद्रमणि पांडेय, रूपेश सिंह, हरिशंकर सिंह, किरणप्रभा पांडेय, इंद्रसेन सिंह, अभिलाषा मिश्रा, सुधाकर मिश्रा, उमेश मिश्रा, अरुण सिंह, अशोक कुमार, कृपाशंकर पांडेय, शैलेंद्र मिश्रा, सत्येंद्र मिश्रा, रामशंकर पांडेय, दिनेश दुबे, रउफ अहमद, केशव मिश्र, जावेद अहमद, शशिकला सिंह, शाईस्ता, आरती शुक्ला, अरुणिमा, रंजना वर्मा, शिवकांत दुबे, सुभाष जायसवाल, प्रज्ञा गुप्ता, श्रीचंद, ऋषि धर, प्रजेश, अजय, आशीष सिंह आदि मौजूद रहे। धरने के उपरांत शिक्षक महासंघ के अगुवाई में शिक्षक विधायक ध्रुव कुमार त्रिपाठी ने शिक्षा सेवा अधिकरण विधेयक की प्रतियां जलाई गई।

इन्होंने भी किया संबोधित
गयानंद मिश्रा, कृष्ण कुमार पांडेय, करुणेश मौर्या, अश्विनी त्रिपाठी, लालजी यादव, पंकज पांडेय, अभिषेक त्रिपाठी, जनार्दन शुक्ला, अभय यादव, रामप्रकाश मिश्र, आशुतोष त्रिपाठी ने धरने को संबोधित किया।

यह है प्रमुख मांगे
प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालय के सहायक अध्यापकों की रिक्त पदों के सापेक्ष पदोन्नति, सत्यापनोपरांत नियमित वेतन व बकाया वेतन के भुगतान हेतु तत्काल आदेश जारी करने, नवनियुक्त शिक्षकों के शैक्षणिक अभिलेखों को सत्यापन हेतु भेजे जाने, निरीक्षणकर्ता अधिकारियों द्वारा बिना स्पष्टीकरण के मनमाने पूर्ण ढंग से वेतन रोकने पर रोक लगाने, ऑनलाइन अवकाशों को धनादोहन हेतु लंबित करने, बच्चों में निशुल्क वितरित किये जाने वाले पुस्तकों, स्वेटर जूता-मोजा, बैग आदि को स्कूल पर पहुचाने, जीपीएफ पासबुक व लेखापर्ची और जीपीएफ ऋण को सुलभ किये जाने, व्यक्तिगत व सामूहिक बकायों को जल्द दिलाने, चयन वेतनमान स्वीकृत किये जाने, अनुचरों की प्रथम व द्वितीय एसीपी दिलाने की मांग प्रमुख है।

Leave a Reply