खालिस्तानी अलगावादी अमृतपाल केलिए सीमा पर अलर्ट, नेपाली अफसरों के साथ एसएसबी की बैठक

April 2, 2023 1:23 PM0 commentsViews: 107
Share news

नजीर मलिक

भारत नेपाल के अफसरों की संयुक्त बैठक

सिद्धार्थनगर। खालिस्तानी अलगाववादी स्वंयभू नेता अमृतपाल सिंह की गिरफ्तारी के प्रयास अभी तक सफल नहीं हो सके हैं। उसकी गिरफ्तारी को लेकर यहां भारत- नेपाल सीमा पर अलर्ट भी जारी हो चुका है। फलस्वरूप सीमावर्ती क्षेत्र में उसके पोस्टर लगाए जाने के साथ ही एसएसबी और नेपाल सशस्त्र बल के अधिकारियों की सीमा की अलग-अलग चौकियां पर बैठक हुई।जिसके तहत संदिग्ध और पंजी कद काठी वाले चेहरों से  गहन पूछताछ करने पर अंकुश लगाने पर बनी।  बता दें कि पूर्व में खालिस्तानी आतंकवाद के दौर में जिले की सीमा से भागसिहं व अजमेर  सिह जैसे कई अतंकवादी गिरफतार किये जा चुके है।

जानकारी के अनुसार कट्टरपंथी खालिस्तानी अलगाववादी नेता अमृतपाल सिंह सन्धु की गिरफ्तारी को लेकर जिले के ककरहवा, अलीगढ़वा, बजहा, खुनुवां, धनौरा व चेरीगवा सीमा चौकी क्षेत्र में हाई अलर्ट घोषित किया गया है। सुरक्षा एजेंसियां अलर्ट हैं। देश के कई हिस्सों में उसके धर पकड़ के लिए अभियान तेज कर दिया गया है। वह भागकर नेपाल में शरण न लेने पाए इसके मद्देनजर नेपाल सीमा पर अलर्ट कर दिया गया है।


एसएसबी 43वीं वाहिनी के जवान सीमा पर अलर्ट होने के साथ ही उसका फोटो मुख्य स्थानों पर लगा चुके हैं। लोगों से अपील कर चुके हैं कि अगर इस हुलिया से मिलता जुलता कोई संदिग्ध दिखे तो तत्काल सूचना दें, ताकि अमृतपाल के नेपाल  पहुंवने से पहले ही उसे गिरफ्तार किया जा सके।इसके लिए शनिवार को एसएसबी 43वीं वाहिनी के अधिकारियों ने सीमावर्ती क्षेत्र की अलग-अलग चौकियों पर नेपाल सशस्त्र बल के जवानों के साथ संयुक्त बैठक की। उनसे इस संबंध में सहयोग मांगा और अपराध पर अंकुश लगाने के लिए सहयोग की भावना से कार्य करने पर चर्चा की।

बैठक में  नेपाल सशस्त्र बल ने पूरा सहयोग करने का भरोसा दिलाया। इस संबंध में एसएसबी 43वीं वाहिनी सशस्त्र सीमा बल के कमांडिंग अधिकारी रामकृष्ण डोगरा ने बताया कि भारत-नेपाल सीमा कार्यक्षेत्र अंतर्गत हर एक बिंदु पर हमारी पैनी नजर है, जिससे कि किसी भी प्रकार की अवैध गतिविधियों व अवांछनीय तत्वों के मंसूबों को नाकामयाब किया जा सके। अन्य सहयोगी सुरक्षा अभिकरणों से परस्पर वार्तालाप कर के जरूरी दिशा-निर्देश जारी किया जा रहा है। और विशेष रूप से अभियान भी चलाया जा रहा हैं।

 

Leave a Reply