वहशियाना कत्लः हत्यारों ने 12वीं के छात्र को बाइक के साथ जिंदा फूंक दिया

April 1, 2018 12:26 pm1 commentViews: 1551
Share news

— बलरामपुर का स्वराज सिंह हत्याकांड

 अजीत सिंह

 

स्वाराज सिंह की जली हुई बाइक

“यूपी के. बलरामपुर जिले के बेलवा गांव में हत्यारों ने क्रूरता की हदें तोड़ दीं। उन्होंने एक छात्र  स्वाराज सिंह को बाइक समेत जिंदा जला दिया। हालात यह थी कि शव को पहचानना मुश्किल था।  उसकी उम्र 18 साल थी और वह कक्षा बारह का छात्र था। इस सम्बंध में पुलिस ने तीन लोगों के खिलाफ नामजद मुकदमा कायम किया है। हत्यारे अभी तक फरार हैं।”

एक छात्र को जिंदा जलाने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। स्टूडेंट और बाइक इस कदर जल चुकी थी कि पहचानना भी मुश्किल हो रहा था। दूर से देखने पर सिर्फ बाइक जली हुई दिख रही थी, पास जाने पर हर कोई दहल गया। पुलिस ने शव की पहचान कर ली है।

बताया जाता है कि लाश की गांव के रामदेव सिंह के पु़त्र स्वाराज सिंह के रूप में हुई है। 18 साल का स्वराज सिंह बलरामपुर  के मॉडर्न इंटर कालेज में 12वीं कक्षा का छात्र था। वह पढ़ने में मेधावी था। उसे स्कूल में हंसमुख छात्र के रूप में जाना जाता था।

बताया जाता है कि, छात्र स्वराज सिंह  को शुक्रवार की देर शाम  कुछ लोग घर से बुलाकर धोखे से अपने साथ ले गए थे। देर रात तक जब वह घर नहीं लौटा तो परिजन चिंतित हुए। मोबाइल से सम्पर्क किया गया, मगर वह बंद मिला। आखिर में लोग थक हार कर सुबह कुछ करने की सोंच कर सो गये।

गांव वालों के मुताबिक शनिवार सुबह गाव में कुछ हलचल सी महसूस हुई। लोगों ने  घरवालों को बताया कि स्वराज को बाइक समेत जिंदा जला कर मार दिया गया है।  देखने वालों का कहना है कि किसी को भून डालने की हद तक निर्दयता कम ही देखी गई है। स्वराज की लाश काफी मुश्किलों से पहिचानी गई। उसका पूरा बदन जल कर खाक हो चुका था।

तीन लोगों ने दिया वारदात को अंजाम

मौके पर पहुंची पुलिस व एसपी प्रमोद कुमार ने घटना स्थल का निरीक्षण कर शव को कब्जे में लेकर फॉरेंसिक टीम की मदद से सबूत जुटाए। एसपी ने बताया, घटना बेहद दर्दनाक है। शव की शिनाख्त कर ली गई है। परिजनों की तहरीर के आधार पर 3 लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है। जल्द ही आरोपियों की गिरफ्तारी कर ली जाएगी।

कत्ल की वजह साफ नहीं

स्वराज की हत्या क्यों की गई सह अभी रहस्य बना हुआ है। उसके परिजन भी कोई कारण बता पाने में समर्थ नहीं हैं। उन लोगों की कोई पारिवारिक दुश्मनी भी नहीं है। इस बारे में पुलिस का कहना है कि अपराधियों की गिरफ्तारी के बाद ही हत्या के कारणों पर प्रकाश पड़ सकेगा। कुछ लोग घटना के पीछे इश्क की कहानी भी देख रहे हैं, मगर अभी इसे पक्के तौर पर नहीं कहा जा सकता है। समाचार लिखे जाने तक दोषियों की तलाश जारी थी और गांव में मातम पसरा हुआ था।

 

 

(1228)

Leave a Reply


error: Content is protected !!