दुखद हादसा: निकले थे बोर्ड की परीक्षा देने तीन दोस्त, लेकिन जिंदगी के इम्तहान में फेल हो गये

February 23, 2024 12:55 PM0 commentsViews: 983
Share news

 

नजीर मलिक

सिद्धार्थनगर। वह तीन छात्र थे। तीनों दसवी की परीक्षा में शामिल होने जा रहे थे। मगर परीक्षा केन्द्र पहुंचने से पहले ही जबरदस्त हादसा हुआ। उनकी बाइक एक ट्रक से टकरा गई। इस टक्कर में पवन कुमार तो जिंदगी के कड़े इम्तहान में फेल हो गया। उसकी बाइक को ट्रक ने ऐसे कुचला की उसकी सांसें वहीं टूट गईं। उसके साथ दो अन्य हमउम्र दोस्त रवि पुत्र जग्गी व राजू पुत्र उमेश घायल होकर अस्पताल में मौत से संघर्ष कर रहे हैं।

 

चित्र—बेटे पवन की मौत की खबर पाकर बिलखती मां व गांव की अन्य महिलाएं

पवन नाम के 16 साल के उस होनहार छात्र के अचानक दुनियां छोड़ देने से परिवार में मातम छा गया। मां, भाई व बहन का रो-रोकर बुरा हाल है और पिता घर से डेढ़ हजार किमी दूर महाराष्ट्र में खून के आसू रो रहा है। गांव में कोहराम मचा हुआ है। दूसरी तरफ महाराष्ट्र के नागपुर में उसके पिता धर्मेंद्र की ट्रेन रात में है। इसलिए वह उधर छटपटा रहे हैं। इस दर्दनाक हादसे से पवन के गांव के साथ-साथ आसपास क्षेत्र में भी शोक  व्याप्त है।

एक की मौके पर टूट गई सांस

बताते हैं कि कोतवाली क्षेत्र के सोनखर गांव निवासी पवन कुमार पुत्र धर्मेंद्र पूरी रात परीक्षा की तैयारी कर गुरुवार सुबह गांव के अपने दो अन्य दोस्तों के साथ हाईस्कूल की परीक्षा देने के लिए घर से निकला था। उसे क्या मालूम था कि गांव की सीमा पर ही मौत का पहरेदार उसके इंतेजार में है। वह अपनी बाइक से सोनखर से आधा किमी आगे गया था कि सामने से पवन की बाइक की टक्कर एक ट्रक से हो गई। जिससे मौके पर ही उसका दम टूट गया। बाकीदोनों साथी भी मरणासन्न हैं। हादसे में मारे गये पवन कुमार के घर पर उसकी मां समेत  18 वर्षीय बहन काजल, और 11 वर्षीय छोटा भाई अमित है। पवन के पिता धर्मेंद्र बच्चों के  बेहतर भविष्य व परवरिश के लिए महाराष्ट्र के महानगर नागपुर में मेहनत मजदूरी कर रहे हैं। इस घटना से उनके ऊपर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है।  वह

पढ़ाई व घर बखूबी संभालता था पवन

घटना की जानकारी होने के बाद से वह बदहवास है और फोन कर लोगों से अपने बेटे के बारें में जानकारी ले रहे हैं। पिता के बाहर रहने व बेटों मे बड़ा होने के कारण पवन पढ़ाई के साथ-साथ घर परिवार का पूरा काम भी देखा करता था, गांव के लोगों का कहना है कि वह काफी होनहार, हंसमुख था।  वह बाप के परदेश रहने के बावजूद स्कूल और घर की जिम्मेदारियों को बखूबी संभालता था। समाचार मिलने तक उसके पिता रात में घर के लिए रवाना हो चुके थे।

बताते चलें कि बांसी कोतवाली क्षेत्र के सोनखर गांव के 16 वर्षीय तीन छात्र पवन रवि व राजू गुरुवार सुबह 6 बजे बाइक से परीक्षा देने राजेडीहा परीक्षा केन्द्र जा रहे थे। मगर गांव सेनिकलते ही उनकी बाइक एक ट्रक से टकरा गई। इस घटना में राजू की मौत हो गई तथा गंभीर रूप से घायल हुए अन्य दोनों छात्र यहां जिला चिकित्सालय में जिंदगी और मौत से लड़ रहे हैं।

 

Leave a Reply