छत गिरने से दो बच्चों की दर्दनाक मौत, महिला समेत तीन घायल, मौत खींच कर ले गई थी वहां

December 24, 2023 12:53 PM0 commentsViews: 618
Share news

शुकवार को कार एक्सीडेंट में दो बच्चों के मारे जाने के बाद मकान

गिरने से फिर दो मासूमों की गई जान, दो अन्य मौत की कगार पर

 

अजीत सिंह

गिरे मकान का मलबा निहारते ग्रामीण

सिद्धार्थनगर।  शुक्रवार को हादसे में दो बच्चों के मरने के बाद शनिवार को फिर एक बड़े हादसे की खबर है। शोहरतगढ़ थाना क्षेत्र के जोगीबारी गांव में पुराने जर्जर मकान के नीचे खेल रहे बच्चों के ऊपर अचानक छत भरभरा कर गिर गई,जिसके मलबे में दबकर दो बच्चों की दर्दनाक मौत हो गई। जबकि दो बच्चे और बचाव में गई एक महिला गंभीर रूप से जख्मी हो गई। घायल बच्चों का माधव प्रसाद त्रिपाठी मेडिकल कॉलेज में इलाज चल रहा है। जबकि महिला अस्पताल तक नहीं पहुंची है। घायल दोनों बच्चे खतरे से बाहर बताए जा रहे हैं। परिवार के लोग शव का पोस्टमार्टम करवाने से मना कर रहे हैं। एसओ शोहरतगढ़ परिवार के लोगों से पोस्टमार्टम करवाने के लिए वार्ता कर रहे हैं।

मौत के बाद विलाप करते परिजन

जानकारी के अनुसार, क्षेत्र के जोगीबारी गांव निवासी राधेश्याम गांव में 50 साल पुराना मकान था। उसके जर्जर होने के बाद वह छोड़कर दूसरे स्थान पर जाकर घर बनकर रह रहे हैं। खंडहर में तब्दील हो चुके मकान में बच्चे अकसर खेलने के लिए जाते हैं। बताया जा रहा है कि शनिवार शाम 6 बजे गांव के ही 7 वर्षीय विशाल पुत्र उमेश, आठ वर्षीय गौतम पुत्र राजनाथ, 11 साल के  अनुज व 5 साल के गौरव दोनों  पुत्र कैलाश उसी जर्जर मकान में खेल रहे थे। अनाचक मकान की छत भरभरा कर गिर गयी और बच्चे मलबे में दब गए। चीख सुनकर बगल में खड़ी गांव की मंजू (४२) पत्नी राजू मौके पर पहुंची और शोर करने के साथ ही मलबे से बच्चों को बाहर निकलने में जुट गई। शोर सुनकर आसपास के लोग मौके पर पहुंचे और मलबा हटाकर चारों को बाहर निकाला।

इसके बच्चों के परिजन बाद घायलों को लेकर माधव प्रसाद त्रिपाठी मेडिकल कॉलेज पहुंचे। जहां विशाल और गौतम को चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। इसके बाद परिजन बिना किसी को कुछ बताए लाश लेकर घर चले गए। वहीं घायल दोनों बच्चों को इलाज चल रहा है। जो खतरे से बाहर बताए जा रहे हैं। जबकि घायल मंजू अस्पताल तक नहीं पहुंची है। एसओ शोहरतगढ़ राज कुमार पांडेय ने बताया कि वह गांव में पहुंच गए हैं। परिवार के लोग शव का पोस्टमार्टम कराने से इन्कार कर रहे हैं। पोस्टमार्टम कराने के लिए उनसे वार्ता की जा रही है। इस संबंध में एसपी अभिषेक कुमार अग्रवाल ने बताया कि मौके पर जा रहे हैं विधिक कार्रवाई की जाएगी।

ज्ञातव्य है कि जर्जर तकान राधेश्याम का है। उसके परिजनों ने बच्चों सहित सभी को उस मकान में जाने से मना कर रखा था। वहां लोग जाते भी नहीं थे मगर उस दिन न जाने क्या हुआ कि चारों बच्चे उस मकान में जाकर खेलने लगे और यह हदसा हो गया। हादसे की खबर पर जिलाधिकारी पवन अग्रवाल व एसपी अभिषेक अग्रवाल ने मौके का जायजा लिया और पीड़ित परिवारों को सात्वना दिया है।

 

 

 

Leave a Reply