बलरामपुर पुलिस ने अनवर की लाश कचरा गाड़ी में डाल कर इंसानियत को शर्मसार कर दिया

June 15, 2020 2:02 pm0 commentsViews: 294
Share news

— रिहाई मंच प्रतिनिधिमंडल ने बलरामपुर के मृतक अनवर अली के परिवार से की मुलाकात- कहा, शव को कूड़े गाड़ी से ले जाना अमानवीय

अजीत सिंह

बलरामपुर। उत्तर प्रदेश के बलरामपुर जनपद  की उतरौला में बीते 10 जून को मृतक अनवर अली (45) की मृत्युगर्मी अथवा किसी अन्य कारण से मृत्यु सड़क पर गिर कर  हो गई थी। उनके शव को बलरामपुर पुलिस और नगर पालिका के कर्मचारियों ने एम्बुलेंस से ले जाने के बजाए कचरा गाड़ी का इस्तेमाल कर पुलिस ने इंसानियत को शर्मसार कर दिया।  इतना ही नहीं मृतक के परिजनों को जब घटना के बारे में पता चला तो वो उतरौला कोतवाली पहुँचे तो मृतक अनवर अली के शव जमीन पर पड़ा पाया। मृतक का  केवल  चेहरा ही केवल रुमाल से ढका हुआ था।

इस प्रकार उतरौला पुलिस ने अमानवीयता की सारी तोड़  दीं। यहां तक कि मृतक के शव का पंचनामा कर परिजनों को शौप दिया, जिसे उन्हें गांव के लोगों से 3 हजार चंदा कर पिकअप गाड़ी से शव को घर लाया गया। दरअसल  पुलिस और नगरपालिका कर्मचारियों ने शव के साथ जो  दुर्व्यवहार किया उस पर लोगों को  धिन आने लगी है।

मृतक अनवर अली की पत्नी अनवारुन्निशा बताती है कि हमें पति के शव को लाने के लिए गांव के लोगों से 3 हजार का चंदा करना पड़ा, तब जाकर पिकअप से शव को पंचनामा के बाद घर ला सके। उन्होंने बताया कि हमारी आर्थिक स्थिति बहुत दयनीय है, दो बच्चे हैं। लड़की की अप्रैल में शादी का दिन पड़ा हुआ था लॉकडाउन चलते नहीं हो पाया, पति के न रहने पर शादी कैसे होगी।

मृतक की बहन सदरुन्निशा बताती है कि अनवर भाई का घर आधा छपरे-ख़परैल का है, कई सालों से आवास के लिए प्रधान और प्रशासन को कहते रह गए लेकिन उन्हें आज तक आवास नहीं दिया गया। उनके घर की स्थिति बहुत दयनीय है बारिश में घर में पानी भर जाता है। बेहद गरीबी में जी रहे अनवर पर तरस खाने के बजाय पुशासन का अंदाज शैतानी कहकहे जैसा है।

स घटना की जानकारी पाते है रिहाई मंच के प्रतिनिधिमंडल ने  घटना स्थल का दौरा किया और मृतक अनवर अली के परिजनों से मुलाक़ात कर शोकाकुल परिवार सांत्वना दी है कि उन्हें  इंसाफ दिलाने जरूर दिलाया जाएगा।

रिहाई मंच प्रतिनिधिमंडल में शामिल रिहाई मंच अध्यक्ष एडवोकेट मोहम्मद शोएब ने कहा कि मृतक अनवर अली के शव के साथ दुर्व्यवहार किया जाना मानवता के नाम पर धब्बा है। शव के साथ अमानवीय हरक़त करने वालों पर कानूनी कार्रवाई की जाए। जिससे कभी किसी के साथ इस तरह का दुर्व्यवहार न हो सके। उन्होंने कहा कि मृतक अनवर अली का घर आधा छपरे-खपड़े का है, अभी तक उन्हें आवास नहीं मिल सका। प्रशासन मृतक अनवर अली के परिजनों को आवास मुहैय्या कराए। प्रतिनिधिमंडल में शबरोज मोहम्मदी, शाहरुख अहमद, अज़ीमुश्शान फ़ारूक़ी और जुनैद मौजूद रहे।

(256)

Leave a Reply


error: Content is protected !!