पूर्व विधायक जिप्पी तिवारी के बेटे वैभव के हत्यारे पकड़े गये, पुलिस रिमांड लेने की तैयारी में

December 19, 2017 5:26 pm0 commentsViews: 1592
Share news

नजीर मलिक

सिद्धार्थनगर। भाजपा नेता व डुमरियांगंज के पूर्व विधायक प्रेम प्रकाश उर्फ जिप्पी तिवारी के बेटे वैभव तिवारी के हत्याकांड में नामजद दोनों आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। उनकी गिरफ्तारी आज मंगलवार दोपहर लगभग ढाई बजे हुई।  दोनों उस समय कोर्ट में सरेन्डर के प्रयास में थे।

मिली जानकारी के अनुसार वैभव की हत्या के दोनों आरोपी सूरज शुक्ला और विक्रम सिंह को गिरफ्तार कर लिया गया। सूरज शुक्ला लखनऊ का प्रापर्टी डीलर है,  जबकि विक्रम सिंह शुटर है। चार दिन पूर्व घटना के समय सूरज के कहने पर ही विक्रम ने वैभव को गोली मारी थी, जिससे वैभव की मौके पर ही मौत हो गई थी। दोनों में प्रपर्टी डीलिंग को लेकर विवाद था।

गिरफ्तारी के बारे में बताया जाता है कि वैभव की हत्या के बाद सूरज और विक्रम फरार हो गये थे। वे प्रतापगढ़, सुलतानपुर इलाके में कहीं छिप कर लखनऊ के सेशन कोर्ट में आत्मसमर्पण की योजना बना रहे थे।  प्लान के मुताबिक वे सोमवार की रात में ही लखनऊ पहुंच गये और दोपहर लंच बाद कोर्ट में सरेंडर का प्लान तय हो गया। लेकिन प्लान में कहीं कमी हो गई और दोनों पुलिस के हत्थे चढ़ गये

बताया जाता है कि पुलिस को कहीं से इस बात की भनक लग गई कि आरोपी आज सरेंडर करेंगे। दरअसल पुलिस ने उनके सभी मोबाइल नम्बरों को सर्विलांस पे ले रखा था। वे दोंनों नये नम्बरों से बात कर रहे थे, लेकिन लगता है कि कहीं चूक हो गई और पुलिस को उनके सरेंडर का बात की पता चल गई।

बताते हैं कि सूरज शुक्ला व विक्रम सिंह दोपहर बाद भेष बदल कर लखनऊ  स्थित सेशन कोर्ट पहुंचे, लेकिन कोर्ट परिसर में पहुंचने से पहले ही उनकी तलाश मे लगी पुलिस टीम ने उन्हें लखनऊ के कैसर बाग में सेशन कोर्ट से पहले ही दबोच लिया। इस गिरफ्तारी के बाद  पुलिस वालों के सीने चौडे हो गये। पुलिा उन्हें लेकर हजरतगंज थोने ले आई। जहां वह लिखा पढ़ी के बाद दोनों को रिमांड पर लेने की कोशिश में हैं।

बताते चलें कि ३० साल के वैभव तिवारी की चार दिन पूर्व रात 9 बजे लखनऊ के हजरतगंज में गोली मार कर हत्या कर दी गई थी। हत्या का कारण प्रापर्टी डीलिंग के के मामले में रुपयों के लेन देन का झगड़ा बताया गया था। हत्या के समय लखनऊ निवासी सूरज शुक्ला अपने साथ वहीं के शूटर विक्रम सिंह को लेकर गया और रात 9 बजे वैभव को की गोली मार कर हत्या की गई।

 

(1351)

Leave a Reply