डुमरियागंज के दिलशाद की दिल्ली में सरेशाम हत्या, आठ नाबालिग गिरफतार

September 11, 2023 12:00 PM0 commentsViews: 888
Share news

दिल्ली ब्यूरो

नई दिल्ली। दिल्ली के संगम विहार इलाके में आठ नाबालिग लड़कों के दल ने  चाकुओं से हमला कर एक बीस सल के युवक पर तब तक वार करते रहे, जब तककि उसकी मौत नहीं हो गई। 20 साल के मृतक युवक का नाम दिलशाद है। वह डुमरियागंज क्षेत्र का रहने वाला है। मृतक दिलशाद किस गांव का है, दिल्ली पुलिस यह पता लगाने की कोशिश कर रही है।  सीसीटीबी फुटेज में आठ-दस लड़के दिलशाद को बेरहमी से मारते दिख रहे हैं, पर भीड़ तमाशबीन बनीदिख रही है। वहां से गुजरने वाले लोगों ने भी दिलशाद को बचाने का प्रयास नहीं किया। काफी देर हमला करने के बाद आरोपी मौके से फरार हो गए। दिलशाद खून से लथपथ हालत में घर पहुंचा। बाद में उसे मजीठिया अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां से उसे सफदरजंग अस्पताल रेफर कर दिया गया। रविवार को इलाज के दौरान दिलशाद ने दम तोड़ दिया। पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर आठ नाबालिगों को दबोच लिया। शुरुआती जांच के दौरान पता चला कि एक साल पहले हुए झगड़े का बदला लेने के लिए वारदात को अंजाम दिया गया। पुलिस पकड़े गए लड़कों से पूछताछ कर मामले की छानबीन कर रही है।

पुलिस के मुताबिक मूलरूप से डुमरियागंज, सिद्धार्थनगर, का रहने वाला दिलशाद अपने परिवार के साथ गली नंबर-12, जी-ब्लॉक, संगम विहार में रहता था। परिवार में पिता मोहम्मद अखतर, मां मकसूदा, दो बड़े भाई व बड़ी बहन रानी है। दिलशाद के बड़े भाई शमशाद की नेहरू प्लेस इलाके में लैपटॉप की शॉप है।

दिलशाद अपने भाई का काम सीखता था। शनिवार शाम को वह घर पर मौजूद था। उसने अपनी मां से किसी काम के लिए 20 रुपये मांगे। वह पांच मिनट में ही वापस आने की बात कर घर से निकल गया। इस बीच चंद मिनटों बाद वह खून से लथपथ घर पहुंचा।

पुलिस ने कहा, झगड़े का बदला लेने के लिए दिया गया वारदात को अंजाम

जिले की पुलिस उपायुक्त चंदन चौधरी ने बताया कि एक साल पहले डीजे को लेकर दिलशाद का जाट धर्मशाला के पास कुछ लड़कों से झगड़ा हो गया था। उसको लेकर विवाद था। शनिवार को इसी वजह से हुए झगड़े में आरोपियों ने पहले दिलशाद पर लात-घूंसों से हमला किया। बाद में उस पर चाकू से वार कर दिया। पुलिस ने वारदात में इस्तेमाल चाकू बरामद कर लिया है। आरोपियों से पूछताछ की जा रही है। वहीं दूसरी ओर परिजनों ने एक साल पहले हुए झगड़े की बात से इन्कार किया है। परिजनों का दावा है कि आरोपी किसी और को मारने आए थे, लेकिन इन लोगों ने गलती से दिलशाद को शिकार बना लिया। उसकी किसी से रंजिश नहीं थी।

किसी ने पकड़ने का नहीं किया प्रयास

घर से चंद कदमों की दूरी पर गली नंबर-9 में दिलशाद को बेरहमी से चाकू मार दिए गए। पूरी वारदात सीसीटीवी कैमरे में कैद हुई। कैमरे में साफ देखा जा सकता है कि आरोपी मधुमक्खी की तरह दिलशाद पर लिपट जाते हैं। इस दौरान सड़क पर खासी चहल पहल है। लोग उसे बचाने का प्रयास नहीं करते। वारदात के बाद आरोपी वहां से फरार होते हैं तो भी भीड़ में से कोई उनको पकड़ने का प्रयास नहीं करते। खून से लथपथ दिलशाद खुद ही अपने घर पहुंचा।

 

Leave a Reply